उद्धव ठाकरे ने भाजपा को समर्थन वापसी की धमकी दी, फडणवीस ने नौटंकी बताया

उद्धव ठाकरे ने भाजपा को समर्थन वापसी की धमकी दी, फडणवीस ने नौटंकी बताया

महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन के सहयोगियों भाजपा और शिवसेना के बीच टकराव चरम पर पहुंच गया है। निकाय चुनाव में प्रचार करने उतरे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भाजपा को समर्थन वापसी की धमकी दी है। वहीं मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मंत्रियों के इस्तीफे की धमकी को नौटंकी बताकर खारिज कर दिया है।

कल्याण में निकाय चुनाव की रैली में शुक्रवार को उद्धव ने कहा कि जब जनता ने इंदिरा गांधी को सबक सिखा दिया तो भाजपा की क्या हैसियत है। अगर भाजपा का अहंकार खत्म नहीं हुआ तो उनके सारे मंत्री इस्तीफा दे देंगे।

इसी दौरान शिवसेना कोटे से सार्वजनिक उपक्रम मंत्री एकनाथ शिंदे ने इस्तीफे की पेशकश की। शिंदे ने कहा कि वह पार्टी की और अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकते। इस पर उद्धव ने शिंदे की बात मानने से इनकार करते हुए कहा कि पार्टी सामूहिक आधार पर कोई फैसला करेगी।
उन्होंने कहा कि भाजपा निकाय चुनाव में सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रही है। गौरतलब है कि दशहरा रैली में उद्धव ने पीएम नरेंद्र मोदी पर तीखे हमले किए थे।

ड्रामा बंद कर शिवसेना: फडणवीस
कल्याण डोंबीवली नगर चुनाव में भाजपा के लिए सभा कर रहे फडणवीस ने जवाब देने में देर नहीं लगाई। उन्होंने कहा कि अभी उन्हें टीवी से इस्तीफे के ड्रामे के बारे में पता चला है। उन्होंने आरोप लगाया कि चुनाव को देखते हुए शिवसेना ये हथकंडे अपना रही है। दोनों पार्टियों के बीच यह तनाव 31 अक्तूबर को गठबंधन सरकार के एक साल पूरे होने के ठीक पहले सामने आया है। फडणवीस ने कहा कि पाकिस्तान के गायक गुलाम अली का कंसर्ट जिस तरीके से रद्द किया गया, वह निराशाजनक है। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत भावना और राष्ट्र के सम्मान के बीच रेखा खींची जानी चाहिए। शिवसेना का नाम लिए बगैर फडणवीस ने कहा कि किसी भी देश के कलाकार के प्रदर्शन को रोकने को सभ्य समाज सरकार से उम्मीद नहीं करता। मुख्यमंत्री ने कहा कि लता मंगेशकर पाकिस्तान में काफी सम्मानित हैं। अगर किसी व्यक्ति को हमारे देश में आने के लिए वैध वीजा मिला हुआ है तो उस व्यक्ति को सुरक्षा देना हमारी जिम्मेदारी है। अगर हम ऐसा नहीं करते तो हमें बनाना रिपब्लिक कहा जाएगा।

महाराष्ट्र में राजनीतिक अस्थिरता: कांग्रेस
भाजपा और शिवसेना में तनाव के बीच महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चह्वाण ने कहा है कि प्रदेश राजनीतिक अस्थिरता की ओर बढ़ रहा है। इससे सरकारी कामकाज और निर्णय प्रक्रिया पर प्रभाव पड़ रहा है। एक किताब के विमोचन में चह्वाण ने कहा कि अगर भाजपा और शिवसेना जनादेश का सम्मान करने में सक्षम नहीं हैं तो कांग्रेस मध्यावधि चुनाव के लिए तैयार है। उन्होंने मुख्यमंत्री फडणवीस से नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देने की मांग की।

Khushboo Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.