मायावती अपने जन्मदिन पर 2017 का चुनावी बिगुल बजाएगी-P2N

मायावती अपने जन्मदिन पर 2017 का चुनावी बिगुल बजाएगी-P2N
लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) सुप्रीमो मायावती ने केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि सपा सरकार के नेता नुमाइशी तौर पर साइकिल चलाने, परिवार को प्रमोट करने और फैमिली शो (सैफई महोत्सव) में बहुत बिजी हैं। सपा सुप्रीमो ने ये बातें सोमवार को लखनऊ में बीएसपी की मीटिंग में कही। मीटिंग में तय हुआ कि बीएसपी 15 तारीख को माया का बर्थडे हर जिले में जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाएगी।
केंद्र सरकार की विदेश नीति लचर और अस्थिर
– उन्‍होंने कहा कि केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार की खासकर पाकिस्तान के बारे में विदेश नीति काफी लचर और अस्थिर है।
– इसकी वजह से भारत-पाक सीमा पर हालात बेहतर नहीं हो पा रहे हैं। स्थिति लागातार बिगड़ती जा रही है।
– माया ने कहा, “सरकार बनने के बाद लोगों को ऐसा लगा था कि बीजेपी के शासनकाल में पाक को लेकर भारत की नीति में बदलाव आएगा और हालात सुधरेंगे। हकीकत कुछ और ही है। मोदी के शासनकाल में भी पाकिस्तान से रिश्ते को लेकर कोई प्रभावी नीतियां नजर नहीं आ रही है।”
– उन्होंने ये भी कहा कि चुनावों के दौरान और एनडीए की सरकार केंद्र में बनने के बाद भी बीजेपी के नेता भड़काऊ बयानबाज़ी कर रहे हैं।यूपी सरकार पर भी बोला हमला
– सपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि ‘जनसेवा, जनहित और जनकल्याण’ के साथ अपराध-नियंत्रण और अच्छी कानून-व्यवस्था कभी भी सरकार की प्राथमिकता में नहीं रही है।
– इनके जनविरोधी कामों से पूरे प्रदेश में हर स्तर पर अराजकता का माहौल है।

और क्या कहा मायावती ने?
– उन्‍होंने नए डीजीपी जावीद अहमद की तारीफ करते हुए कहा कि उनका रिकॉर्ड एक योग्य और ईमानदार अफसर का रहा है, लेकिन यूपी में वो ईमानदारी से काम नहीं कर पाएंगे।
– उन्‍होंने कहा कि यहां सपा सरकार की नकेल गुंडों, माफियाओं, अत्याचारी, जातिवादी और भ्रष्ट सपा नेताओं के हाथ में रही है। इसी कारण अच्छे और ईमानदार सिविल या पुलिस अधिकारी यहां काम नहीं कर पाते हैं।
– सुप्रीम कोर्ट में नए लोकायुक्‍त को लेकर सरकार के कदम को माया ने काला कारनामा बताया।
– उन्‍होंने ये भी कहा कि सपा और बीजेपी की मिलीभगत से प्रदेश का माहौल लगातार खराब होता जा रहा है।
मीटिंग में क्या हुआ?
– बीएसपी की मीटिंग में पार्टी पदाधिकारियों को यूपी असेंबली इलेक्शन को लेकर जिम्मेदारियां दी गईं।
– मीटिंग में संगठन के काम, सर्वसमाज में पार्टी के जनाधार को बढ़ाने के मिशनरी कार्यों पर चर्चा की गई।
– चर्चा के दौरान जन कल्‍याणकारी दि‍वस पर जिला स्तर पर कार्यक्रम आयोजित करके क्षेत्र के अति-गरीबों, असहाय और अन्य जरूरतमंद लोगों की मदद करने का फैसला लिया गया।
– इसके लि‍ए पार्टी के कार्यकर्ताओं, वि‍धायकों और सांसदों को अभी से जुट जाने को बोला गया है।
5वीं बार सीएम की दौड़ में माया
– मायावती चार बार यूपी की सीएम बन चुकी हैं।
– देश की पहली दलित महिला सीएम बनने का खिताब भी उनके ही नाम है।
– अब मायावती 5वीं बार यूपी की सीएम बनना चाहती हैं।
– इसलिए उन्होंने एलान किया है कि अब वो मूर्तियों और स्मारकों के चक्कर में नहीं पड़ेंगी।
– यूपी का डेवलपमेंट ही उनका एजेंडा होगा।
अपर कास्ट के लिए की थी रिजर्वेशन की मांग
– हाल ही में मायावती ने पार्लियामेंट में अपर कास्ट (अगड़ी जाति) के लिए आर्थिक आधार पर रिजर्वेशन (आरक्षण) देने की मांग की है।
– उन्होंने कहा था, “प्रधानमंत्री ने अगड़ी जाति को आरक्षण देने की घोषणा क्‍यों नहीं की? अगर 27 सितंबर को पीएम ऐसा करते, तो ये डॉ. आंबेडकर को सच्‍ची श्रद्धांजलि होती।”
– मायावती के इस बयान को यूपी में होने वाले असेंबली इलेक्शन से जोड़कर देखा जा रहा है।
अलायंस से किया था इनकार
– मायावती ने यूपी असेंबली इलेक्शन को लेकर अलायंस से इनकार किया था।
– हाल ही में उन्होंने कहा था कि अलायंस की खबरों को फैलाकर माहौल तैयार करने की कोशिश की जा रही है।
– माया ने कहा था, “बीजेपी या सपा के साथ अलायंस की खबरे निराधार हैं। बीएसपी यूपी में अकेले चुनाव लड़ने में सक्षम है। हम साल 2017 में अपनी सरकार बनाएंगे।”
मूर्तियों-स्मारकों की वजह से गंवाईं सत्ता
– मायावती को मूर्तियों और स्मारकों की वजह से ही सत्ता गंवानी पड़ी थी।
– उनके कार्यकाल में ताकतवर माने जाने वाले कई मंत्री आज भी जेल में बंद है।
जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनेगा माया का बर्थडे
– मायावती का जन्मदिन 15 जनवरी को है।
– बीएसपी उनके जन्मदिन को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाती है।
– इसकी तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं।
– जन्मदिन पर ही बीएसपी सुप्रीमो असेंबली इलेक्शन का आगाज करने वाली हैं।

Khushboo Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.