झांसी के रंगबाज मुंडे बद्री और उनकी दुल्हनियां वैदही का यह धमाल एकदम सही समय पर मचा है

झांसी के रंगबाज मुंडे बद्री और उनकी दुल्हनियां वैदही का यह धमाल एकदम सही समय पर मचा है





जरा इस सीन पर गौर करिये…हीरोइन को कुछ गुंडे छेड़ते हैं। उसके कपड़े अस्त-व्यस्त हो जाते हैं। हीरो उसे बचाने आता है और अपनी जैकेट या शर्ट उतार कर उसे ओढ़ा देता है।

aalia-varun

शशांक खेतान निर्देशित फिल्म ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’ में भी यह सीन है। फर्क सिर्फ इतना है कि हीरोइन और हीरो की भूमिकाएं आपस में बदल जाती हैं। सिंगापुर की सड़कों पर वहां के कुछ गुंडे वरुण के साथ छेड़छाड़ करते हैं। आलिया कुछ लोगों को साथ आकर वरुण को बचाती हैं और उनके फट चुके कपड़ों पर तरस खाकर अपना स्टोल वरुण को ओढ़ा देती हैं।

कॉमिक अंदाज में फिल्माया गया यह सीन बड़ी आसानी से फिल्म में सबसे ज्यादा तालियां बटोर ले जाता है। यह सीन ही नहीं, इस फिल्म में ऐसी बहुत सी खूबियां हैं जो इसमें मनोरंजन का तड़का लगाती हैं।

क्यूटनेस के साथ आलिया की एक्टिंग का धमाल

alia-varun1

झांसी के रंगबाज मुंडे (वरुण धवन) और कोटा की क्यूट कुड़ी (आलिया भट्ट) का यह धमाल एकदम सही समय पर मचा है। मौका भी है और दस्तूर भी। महिला दिवस अभी-अभी झकझोर कर निकला है और होली दरवाजा खटखटा रही है। ऐसे माहौल में ‘खेलन क्यों न जाए, तू होरी’ जैसे गीतों वाली यह फिल्म लड़कियों के परों को परवाज देने की बात भी कहती है, पर भारीभरकम नहीं, हल्के-फुल्के अंदाज में।

Facebook,Twitter और You Tube पर हमें फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें-

कहानी साधारण होते हुए भी इसका प्रस्तुतिकरण प्रभावी है। इस सीरीज की पिछली फिल्म ‘हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया’ में आलिया को डिजाइनर लहंगा चाहिए था, पर ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’ की चाहतें कहीं ज्यादा बड़ी हैं।

Badrinath-Ki-Dulhania

वह एयर-होस्टेस बनकर आसमान छूना चाहती है। इसी चाहत को पूरा करने के लिए वह बद्रीनाथ के साथ हो रही अपनी शादी के आयोजन से भाग जाती है और इस तरह इंटरवेल से पहले ही अपने बद्री का दिल टूट जाता है। कहानी के बारे में इससे ज्यादा बताना नाइंसाफी होगी। महत्वाकांक्षी वैदेही त्रिपाठी के रोल में आलिया इतनी सहज लगी हैं कि लगता है कि यह उन्हें ही ध्यान में रखकर लिखा गया होगा। और उनकी खूबसूरती के तो कहने ही क्या।

badri

वहीं वरुण धवन का काम भी इस फिल्म में उनकी पिछली फिल्मों से बेहतर लगा है। ‘बदलापुर’ के बाद पहली बार वह अपनी छाप छोड़ते हैं। फिल्म के कुछ दृश्यों में तो उनका चेहरा भावहीन है और उन्होंने ओवरएक्टिंग की है, पर कुछ दूसरे दृश्यों में उनके चेहरे के भाव और उनकी संवाद अदायगी देखते ही बनती है। इससे पता लगता है कि वह अब एक्टिंग पर भी मेहनत कर रहे हैं।



Nadeem Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.