17 साल के लड़के से डरी भाजपा सरकार

17 साल के लड़के से डरी भाजपा सरकार




भोपाल (पल पल न्यूज ):  वॉट्सएप पर किसान आंदोलन से जुड़ी पोस्ट शेयर करने की सजा इतनी बड़ी होगी ये किसने सोचा था। जिस वक्त पुलिस ने छात्र को घेर के पकड़ा तब छात्र को ऐसा लगा जैसे वो कोई कश्मीर का आतंकवादी हो। पुलिस की पूरी फौज आयी थी एक 17 साल के लड़के को पकड़ने।

 Twitter पर follow करें

एक की रिपोर्ट के मुताबिक, 17 वर्षीय किशोर जिसने हाल ही में 12वीं की परीक्षा पास की है उस छात्र का कसूर सिर्फ इतना है कि उसने वॉट्सएप पर आई एक पोस्ट को बिना पढ़े ही दूसरे ग्रुपों और अन्य नंबरों पर शेयर किया था।

रविवार को कुरवाई कैथोरा (जिला सागर) निवासी इस छात्र को पुलिस ने हिरासत में लिया था। छात्र को पकड़ने 4 शहरों कुरवाई, गंजबासौदा, विदिशा और पथरिया थाने की पुलिस को आना पड़ा। वह भी 30 से 35 की संख्या में, दो जीप और 8 बाइक पर।

यूपी बना मशहूर अपराधी स्थल, हरियाणा से युवती को उठाकर बलात्कार कर नोएडा में फेंका

ये वो पोस्ट है जो विशाल के मोबाइल नं. 9926475966 से शेयर किया गया था, इसे पोस्ट को पुलिस आपत्तिजनक बता रही है। पोस्ट- ‘ सभी मध्य प्रदेश के युवा भाइयों से निवेदन है कि किसान आंदोलन में आगे आये शिवराज सरकार को बहुत घमंड आ गया है और ताकत भी है केंद्र फायरिग क्या कुछ भी कर सकते है अभी 5 परिवार ही रो रहे है कहीं देर न हो जाए वरना हजारों परिवार रोयेंगे, किसान एकता को औऱ संख्या में एकत्रित करो ये 5 किसान की जगह 50 नेताओं को….। (इसके आगे कुछ ऐसे शब्द हैं जो हम यहां नहीं लिख सकते हैं)

Facebook और  You Tube पर हमें फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें-

वहीं इस पोस्ट के संबंध में छात्र का कहना है कि 7-8 दिन पहले ये पोस्ट वॉट्सएप पर एक ग्रुप में आया था जिसे मैंने देखा तो था, लेकिन शुरू की एक लाइन पढ़ी और आगे शेयर कर दिया क्योंकि इसमें किसानों के बारे में था। ग्रुप एडमिन और पोस्ट डालने वाले के बारे में मुझे पता नहीं है।

गुजरात पुलिस ने बलात्कार की शिकार दलित पीड़िता से मांगा कास्ट सर्टिफिकेट

पुलिस का इस मामले में कहना है कि हमने विशाल को हिरासत में लिया था, लेकिन सिर्फ पूछताछ के लिए उसने भी ये माना है कि उसने ही ये पोस्ट वॉट्सएप ग्रुपों और पर्सनल नंबरों पर किए थे। सुरक्षा कारणों से विशाल का मोबाइल थाने में ही रखा है। 30-35 पुलिस वाले नहीं पथरिया थाने से 4-5 पुलिसकर्मी गए थे उसे पकड़ने।




PRAGATI SHARMA

The author didn't add any Information to his profile yet.