डियर जिंदगी में वो ही शाहरूख खान हैं, जिसे आप देखने की तमन्ना रखते है

डियर जिंदगी में वो ही शाहरूख खान हैं, जिसे आप देखने की तमन्ना रखते है





गौरी शिंदे का नाम आते ही तुरंत आंखों के सामने श्रीदेवी की कमबैक फिल्म ‘इंग्लिश विंग्लिश’ की झलक आ जाती है. करियर की शुरुआत में गौरी ने 100 से भी ज्यादा ऐड फिल्म्स किए थे. फिर 2012 में उन्होंने ‘इंग्लिश विंग्लिश’ बनाकर सबका दिल जीत लिया. ‘डियर जिंदगी’ में शाहरुख-आलिया की जोड़ी पहली बार नजर आ रही है. जानते हैं कैसी है फिल्म:

कहानी:
फिल्म की कहानी का सबसे अहम किरदार कायरा (आलिया भट्ट) का है जो एक सिनेमेटोग्राफर है और परफेक्ट जिंदगी की खोज में लगी हुई है. उसका सपना एक खुद की फिल्म डायरेक्ट करना है. इसी बीच उसकी मुलाकात प्रोड्यूसर रघुवेन्द्र (कुणाल कपूर) से होती है. लेकिन किन्हीं कारणों से उसकी दोस्त टूट जाती है. फिर वो सिड (अंगद बेदी) और रूमी (अली जफर) से भी मिलती है लेकिन किसी खास चीज की तलाश में वो खोई रहती है. जब वो मुंबई से गोवा शिफ्ट होती है तो उसकी डॉक्टर जहांगीर खान उर्फ जग (शाहरुख खान) से मुलाकात होती है. जो कायरा को जिंदगी जीने का नया नजरिया सिखाते हैं. जग हमेशा से ही कायरा की सोच और उसके जिंदगी जीने के ढंग को करेक्ट करने में लगे रहते हैं और आखिरकार फिल्म को अंजाम मिलता है.

Facebook पर हमारे पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें-

फिल्म क्यों देखना चाहिए:
1. आलिया भट्ट ने 2012 से लेकर अब तक कई फिल्मों में खुद को परफेक्ट सिद्ध किया है. चाहे वो ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ हो या फिर ‘हाईवे’. एक बार फिर से आलिया ने भीड़-भाड़ और मसाला फिल्मों से दूर इस सुकून से भरी फिल्म में उम्दा अभिनय किया है. आलिया का प्रदर्शन देख कर आप उनसे कनेक्ट कर पाते हैं.

2. जहां हर तरफ मसाला और कॉमर्शियल फिल्मों के पीछे फिल्ममेकर्स भागते रहते हैं, वहीँ गौरी शिंदे बड़े ही शांत तरीके से कुछ साल एक ऐसी स्क्रिप्ट को देती हैं जो आउट ऑफ द बॉक्स बनकर सामने आती है. ‘डियर जिंदगी’ की कहानी और डायरेक्शन भी कमाल का है.

3. फिल्म का संगीत एक बार फिर से अमित त्रिवेदी ने ही दिया है. अमित ने गौरी की फिल्म ‘इंग्लिश विंग्लिश’ का म्यूजिक भी दिया था. गाने फिल्म की रफ्तार के संग-संग चलते हैं साथ ही इसे एक लेवल ऊपर ले जाते हैं.




4. फिल्म में शाहरुख खान की मौजूदगी इसे और भी ब्राइट बनाती है. शाहरुख जब भी आलिया के साथ आते हैं तो उनके गाइड की भूमिका को बखूबी निभाते हैं. साथ ही वो अच्छी- अच्छी बातें और सोचने का ढंग भी सीखाते हैं.

5. फिल्म के लोकेशन्स और लक्ष्मण उतेकर की सिनेमेटोग्राफी कमाल की है. साथ ही फिल्म के बाकी कलाकार जैसे प्रोड्यूसर के रूप में कुणाल कपूर, होटल के मालिक के किरदार में अंगद बेदी और म्यूजिशियन के पात्र को निभाते हुए अली जफर ने ठीक-ठाक अभिनय किया है.

रेटिंग: 3 स्टार

Khushboo Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.