डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति उम्मीदवारी के लिए जरूरी समर्थन मिला

डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति उम्मीदवारी के लिए जरूरी समर्थन मिला

डोनाल्ड ट्रंप अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी से उम्मीदवार बनने के लिए पार्टी प्रतिनिधियों का जरूरी समर्थन जुटाने में गुरुवार को कामयाब हो गए। अब वह जुलाई में क्लीवलैंड में होने वाले पार्टी के राष्ट्रीय सम्मेलन में नामांकन को स्वीकार करने जाएंगे। अमेरिकी मीडिया में इस आशय की खबरें आई हैं।

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की उम्मीदवारी का नामांकन हासिल करने के लिए एक निश्चित संख्या में पार्टी प्रतिनिधियों का समर्थन जुटाना आवश्यक होता है। समाचार एजेंसी एपी के अनुमान के अनुसार, ट्रंप को 1,238 प्रतिनिधियों का समर्थन प्राप्त है। जबकि रिपब्लिकन उम्मीदवारी के लिए उन्हें 1,237 प्रतिनिधियों का समर्थन जुटाना जरूरी था।

ट्रंप की नीतियों से विश्व नेता घबराए: ओबामा
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने गुरुवार को कहा कि डोनाल्ड ट्रंप की कुछ नीतियों से विश्व के नेता घबरा गए हैं। वे इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं है कि ट्रंप की कुछ घोषणाओं को कितनी गंभीरता से ली जाए। लेकिन वे उनसे घबरा गए हैं और यह घबराहट सही कारणों को लेकर है।

ट्रंप अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवारी के लिए अपना प्रचार अभियान शुरू करने के बाद से ही उकसाऊ टिप्पणियों और नीतिगत रुख को लेकर सुर्खियों में रहे हैं। उन्हें अपनी टिप्पणियों में मेक्सिको वासियों, मुसलमानों और महिलाओं का कथित तौर पर अपमान करते देखा गया। ओबामा अभी जापान दौरे पर हैं।

सौदों के लिए उपनाम का इस्तेमाल किया: ट्रंप
डोनाल्ड ट्रंप ने कबूल किया है कि उन्होंने कारोबार से जुड़े सौदों के लिए उपनाम का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि रियल स्टेट कारोबार में कई लोग अधिक धन देने से बचने के लिए ऐसा करते हैं। 25 साल पुराने एक टेप में अपने खुद के प्रवक्ता का वेश धारण करने से इनकार करने के दो हफ्ते से भी कम समय बाद ट्रंप ने एक साक्षात्कार में कहा कि वह अपने व्यावसायिक करियर में अक्सर ही उपनाम का इस्तेमाल करते थे। हालांकि, वह अब भी 1991 के टेप में अपनी आवाज होने से इनकार कर रहे हैं।

Khushboo Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.