मुस्‍लिमों को मुल्‍लों का इस्‍लाम छोड़कर अल्‍लाह का इस्‍लाम मानना चाहिए: तारिक फतेह

By / 11 months ago / Latest Posts, News / No Comments
मुस्‍लिमों को मुल्‍लों का इस्‍लाम छोड़कर अल्‍लाह का इस्‍लाम मानना चाहिए: तारिक फतेह

दिल्ली. पल पल न्यूज से खास बातचीत में  पाकिस्तानी मूल के लेखक और पत्रकार तारिक फतेह ने देवबंद के मदरसों पर हमला बोलते हुए कहा, ”उनके मदरसे मोहम्‍मद गजनवी की आइडि‍योलॉजी पर काम करते हैं, जिसने देश को लूटा और सोमनाथ को तोड़ा। मुस्लिम मुल्लाह के इस्लाम पर नहीं, अल्लाह के इस्लाम पर चलें।” वहीं, तीन तलाक के मुद्दे पर कहा, ”बीवियां अपने शौहर को तलाक देकर बाहर फेंक दें। मुल्लाओं की बेटियों के साथ ऐसा हो जो 15 साल की बेटियों के साथ होता आ रहा है, तब मुल्लाओ को होश आएगा।”



मुलायम-अखि‍लेश की लड़ाई पर भी फतेह ने किया कमेंट
– फतेह ने आगे कहा, यूपी का इलेक्शन बंदर का नाच हो गया है। लोग कहते हैं मुस्लिम मेरे साथ है। क्यों कहते हो अपने दम पर लड़ो।
– वहीं, मुलायम और अखिलेश में मचे घमसान पर कहा, ”क्या ट्राबिलिजम है। ये कोई जमीदारी है बाप-बेटे लड़ रहे हैं। चाहें राजीव गांधी का लड़का हो या यादव खानदान हो। खानदान पर खानदान चले आ रहे हैं।
करीना-सैफ पर ये किया कमेंट
– करीना और सैफ पर तंज करते हुए कहा, ”जब पाकिस्तान की बात आती है तो सब खामोश हो जाते हैं और बच्चे का नाम तैमूर रख दिया। क्यों? और कोई नाम नहीं मिला। तैमूर की हिस्ट्री तो पता कर लेते पहले।”
कौन हैं तारिक फतेह?
– 2 नवंबर 1949 में जन्मे पाकिस्तानी मूल के लेखक तारिक फतेह फिलहाल लंबे वक्त से कनाडा में रह रहे हैं।
– तारिक की पहचान मीडियाकर्मी, लेखक और लिबरल एक्टिविस्ट के तौर पर भी है।
– उन्होंने चेजिंग अ मिराज: द ट्रैजिक इल्यूजन ऑफ एन इस्लामिक स्टेट नाम की किताब भी लिखी है। तारिक लंबे समय से कनाडा में रह रहे हैं। कभी एक पाकिस्तानी न्यूज चैनल में प्रोड्यूसर रहे तारिक को पाकिस्तान की जिया उल हक सरकार ने राजद्रोह का आरोप लगाकर देश से बाहर कर दिया था।




– वे पाकिस्तान के हालात और इस्लाम पर खुलकर अपने विचार रखने के लिए जाने जाते हैं।

Facebook,Twitter और Youtube पर हमें फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें-

Nadeem Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.