संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार विशेषज्ञों ने भारत से CAA विरोधी प्रदर्शनकारियों को तुरंत रिहा करने को कहा

संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों ने भारत से की मांग, ओएचसीएचआरने CAA विरोधी कार्यकर्ताओं को जल्द रिहा करने पर दिया बयान।

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
29 जून 2020 @ 14:52
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
 Proposal against CAA passed in Puducherry Assembly

संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार विशेषज्ञों ने बीते शुक्रवार को भारत से उन प्रदर्शनकारियों को तुरंत रिहा करने के लिए कहा जिन्हें देश के नागरिकता कानूनों (CAA) के खिलाफ विरोध करने के लिए गिरफ्तार किया गया है।

बता दें कि विशेषज्ञों ने कहा है कि, इन मानवाधिकार रक्षकों की गिरफ्तारी इसलिए की गई है क्योंकि उन्होंने सीएए कानून की आलोचना करने के साथ साथ इसका विरोध करने के अपने अधिकार का स्तेमाल किया था। उन्होंने ये भी कहा कि गिरफ्तारी भारत की वाइब्रेंट सिविल सोसायटी को शांत करने के लिए एक मैसेज भेजने के रूप में की गई है कि सरकार की नीतियों की आलोचना को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

कानूनी मामलों की एक खास समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, इन मानवाधिकार विशेषज्ञों ने खासतौर से मीरान हैदर, गुलशा फातिमा, सफूरा जरगर, आसिफ इकबाल तनहा, देवांगना कलिता, नताशा नरवाल, खालिद साइ, शिफा उर रहमान, डॉ. कफील खान, शरजील इमाम और अखिल गोगोई का जिक्र किया है।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें