16 साल बाद आज अनशन खत्म करेंगी इरोम शर्मिला

16 साल बाद आज अनशन खत्म करेंगी इरोम शर्मिला

इंफाल: मणिपुर की ‘लौह महिला’इरोम चानू शर्मिला आज सुबह अपना 16 साल से जारी उपवास तोड़ेंगी. अधिकारों के लिए होने वाले आंदोलनों का चेहरा बन चुकी 44 वर्षीय शर्मिला आज स्थानीय अदालत में अपना उपवास खत्म करेंगी. आज उन्हें न्यायिक मेजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा. जब वे उपवास तोड़ लेंगी तो उन्हें न्यायिक हिरासत से रिहा कर दिया जाएगा.

irom

सैन्य बल विशेषाधिकार कानून(अफस्पा) को खत्म करने की मांग को लेकर 16 साल पहले उन्होंने उपवास शुरू किया था. शर्मिला को जीवित रखने के लिए कैदखाने में तब्दील हो चुके अस्पताल में उन्हें साल 2000 से ही नाक में ट्यूब के जरिए जबरन खाना दिया जा रहा था.




गौरतलब है कि उन्होंने पिछले महीने उपवास तोड़ने की घोषणा की थी और कहा था कि वह चुनाव लडेंगी. इस नई शुरूआत के समय शर्मिला कुनबा लूप के बैनर तले काम करने वाले बड़ी संख्या में उनके समर्थक और महिला कार्यकर्ता मौजूद रहेंगे लेकिन उनकी 84 वर्षीय मां शाखी देवी यहां नहीं होंगी.

Irom-Sakhi-Devi,-84,-mother-of-Irom-Sharmila

(तस्वीर- इरोम शर्मिला की मां शाखी देवी)

शर्मिला के भाई इरोम सिंहजीत के मुताबिक मां शर्मिला से मुलाकात करने वहां नहीं जाऐंगी. वे उनकी जीत का इंतजार कर रही हैं और यह मौका तभी आएगा जब अफस्पा को हटा लिया जाएगा. सिंहजीत भी आज अदालत परिसर में मौजूद रहेंगे.

FACEBOOK पर हमारे पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें-

शर्मिला के परिजन और समर्थक उनसे 26 जुलाई के बाद से मिल नहीं पाए हैं. इसी दिन उन्होंने उपवास का अंत करने और अफस्पा को हटाने की लड़ाई राजनीति में आकर लड़ने के अपने निर्णय की घोषणा की थी.

Singhjit-Singh,-58,-elder-brother-of-Irom-Sharmila

(तस्वीर- इरोम शर्मिला के भाई सिंहजीज सिंह)

उनके भाई ने कहा कि रिहा होने के बाद वे कहां जाएंगी, इस बारे में हमें कोई जानकारी नहीं है. अगर वह घर आकर हमारे साथ रहना चाहती हैं तो उनका स्वागत है. लेकिन यह फैसला पूरी तरह से उनका ही होगा. इरोम चानू शर्मीला सुबह 10.30 बजे के बाद अस्पताल से निकलेंगी और सुबह 11 बजे कोर्ट पहुंचेंगे जहां वह अपना उपवास खत्म करेंगी.

चुनाव लड़ेंगी इरोम, राजनीतिक  पार्टियों में मची होड़

कानून की नजर में भले ही वो आत्महत्या के प्रयास की आरोपी मानी गई हों लेकिन आम लोगों के बीच उनकी छवि एक मसीहा की बनी. इरोम शर्मिला अनशन खत्म करके राजनीति की दुनिया में आनेवाली हैं और उनको अपने साथ लाने के लिए राजनीतिक दलों में होड़ मची हुई है. जेडीयू के एक वरिष्ठ नेता तो इरोम शर्मिला के अनशन खत्म करने से पहले ही उनके पास न्योता लेकर पहुंच गये.




राजनीति के अलावा इरोम शर्मिला एक और दूसरी पारी शुरू करने जा रही हैं. खबरें हैं कि वो भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिक देशबोंडो क्विनटों के साथ जल्द ही शादी करने वाली हैं. एक मौके पर इरोम शर्मिला ने खुद अपनी हाथों से देशबोंडो क्विनटों का नाम लिखकर उनके प्रति अपने लगाव को जाहिर किया था. ऐसी खबर मिल रही है कि देशबोंडो क्विनटों ने साल 2010-11 के आसपास इरोम शर्मिला की जिंदगी में दस्तक दी.

शर्मिला ने 16 साल बिना खाए क्यों बिताए ?
इरोम शर्मिला के अनशन की वजह बना मणिपुर में लागू आर्म्स फोर्स स्पेशल पावर एक्ट. वो इसी एक्ट को हटाने के लिए पिछले 16 साल से अनशन कर रही थीं. उनके मुताबिक इसकी आड़ में सैन्य बल आम आदमी के अधिकारों का उल्लंघन करते हैं.

admin

The author didn't add any Information to his profile yet.