जोहरा मैं तुम्हे लोरी नहीं सुना सकता पर तुम्हारे सपने जरूर पुरा करूंगा- गौतम गंभीर

जोहरा मैं तुम्हे लोरी नहीं सुना सकता पर तुम्हारे सपने जरूर पुरा करूंगा- गौतम गंभीर

नई दिल्ली  क्रिकेटर गौतम गंभीर पहली ही सुकमा में शहीद हुए सुरक्षाबलों के बच्चो की शिक्षा का पूरा खर्चा उठा रहे है अब उन्होंने शहीद ASI अब्दुल राशिद की बेटी की पढ़ाई का खर्च उठाने का ऐलान किया है. बता दे आतंकियों के हमले में ASI अब्दुल राशिद शहीद हो गए थे, गौतम गंभीर ने पांच साल की लड़की जोहरा से मिलकर कहा कि मैं आपके पिता को तो वापस नहीं ला सकता लेकिन आपको भरोसा दिलाता हूं कि आपकी पढ़ाई की पूरी जिम्मेदारी अब मेरी है. गंभीर ने कहा कि मैं उस मासूम के सपनों को टूटते हुए नहीं देख सकता.



पढ़े- देश को मंदिर-मस्जिद के नाम पर बॉटने वालो पर गंभीर हुए गौतम

गौरतलब है कि ASI अब्दुल राशिद 28 अगस्त को कश्मीर के अनंतनग के मेंहदी कदाल इलाके में आतंकियों ने हमला करके शहीद कर दिया था,शहीद अब्दुल रशीद की पांच साल की बेटी जोहरा की तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुआ जिसमें वह अपने पापा से लिपट कर रो रही है. गंभीर गंभीर ने कहा कि जोहरा आप अपने आंसू मत रोको. आंसू बह जाने दो, क्योंकि धरती मां भी आपके दर्द के बोझ को उठाना चाहती हैं. आपके शहीद पिता को मैं सलाम करता हूं.

Facebook  और  You Tube पर हमें फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें-





गौतम गंभीर अपने नाम पर फाउंडेशन चलाते हैं जिससे वो कई समाज के उत्थान के लिए काम कर रहे है, इसी साल छत्तीसगढ़ के सुकमा में CRPF जवानों पर हुए हमले में 25 CRPF जवान शहीद हो गए थे,इस हमले में शहीद हुए सुरक्षा बलो के बच्चो की पढ़ाई का खर्चा वो उठा रहे है. गौतम गंभीर की फाउंडेशन गरीबो को मुफ्त में भोजन भी उपलब्ध करा रही है,क्रिकेट की दुनिया में नाम तो कई क्रिक्केटर ने कमाया लेकिन जो गौतम गंभीर कर रहे है इसकी मिसाल कम ही मिलती है.

पढ़े- शाहरूख की टीम के कप्तान सुकमा हमले में शहीद जवानों के बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाएंगे



जब जोहरा के आंसू देखकर….

शहीद एएसआई अब्दुल राशिद की बेटी जोहरा के आंसुओं वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी, जम्मू कश्मीर पुलिस ने अपने ऑफिशियल पेज पर जोहरा की तस्वीर शेयर करते हुऐ लिखा था कि जोहरा बेटा तुम्हारे आंसू हमारे कलेजे को दहला देते हैं। गौरतलब है कि कश्मीर में हाल ही में जोहरा के पिता एएसआई अब्दुल राशिद को आतंकवादियों ने गोली मारकर शहीद कर दिया था।

Khushboo Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.