टी-20 वर्ल्ड कप: पहले सेमीफाइनल में अपराजेय किवी के सामने अंग्रेज-P2N

टी-20 वर्ल्ड कप: पहले सेमीफाइनल में अपराजेय किवी के सामने अंग्रेज-P2N

आईसीसी वर्ल्ड ट्वेंटी20 के पहले सेमीफाइनल में आज न्यूजीलैंड और इंग्लैंड आमने सामने होंगे। कीवी टीम ने जिस तरह से पूरे वर्ल्ड कप में खेली है उसे देखते हुए उन्हें खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। ग्रुप ऑफ डेथ में भारत, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसी टीमों को हराकर कीवी टीम ने सबसे पहले सेमीफाइनल में जगह बनाई थी।

फाइनल मैच से एक कदम की दूरी पर कीवी टीम को पूर्व चैंपियन इंग्लैंड की चुनौती का सामना करना होगा। दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर होने वाले पहले सेमीफाइनल में ग्रुप-दो में पहले स्थान पर रही टीम न्यूजीलैंड और ग्रुप-एक की दूसरे स्थान पर रही टीम इंग्लैंड के बीच मैच खेला जाएगा जहां कीवी टीम की कोशिश अपने ग्रुप चरण के प्रदर्शन को दोहराने की होगी।

वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड एकमात्र ऐसी टीम है जिसने अपने सभी चारों मैच जीते हैं और फिलहाल सबसे मजबूत नजर आ रही है। पिछले साल आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप की उपविजेता टीम रही न्यूजीलैंड ने टी-20 फॉरमैट में भी कभी वर्ल्ड कप खिताब नहीं जीता है जबकि इंग्लैंड ने साल 2010 में ऑस्ट्रेलिया को हराकर खिताब पर कब्जा किया था।

इंग्लैंड ने ग्रुप चरण में चार में से तीन मैच जीते हैं और आखिरी मैच में श्रीलंका को 10 रन से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान के खिलाफ अपने तीसरे ग्रुप मैच में 22 रन की जीत के साथ ही सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया था जबकि बांग्लादेश के साथ उसका चौथा मैच औपचारिकता भर था।

न्यूजीलैंड ने सबसे चुनौतीपूर्ण अपने ग्रुप-दो में साल 2007 की चैंपियन भारत, साल 2009 की चैंपियन पाकिस्तान, एशिया टी-20 टूर्नामेंट की उपविजेता बांग्लादेश और पांच बार की वनडे वर्ल्ड कप चैंपियन ऑस्ट्रेलिया जैसी दिग्गज टीमों को शिकस्त दी है।

कीवी टीम में दिख रहा है बैलेंस
पिछले मैचों को देखें तो साफ हो जाता है कि मौजूदा कीवी टीम की जीत का सूत्र उसके बल्लेबाज और गेंदबाजों का संतुलित प्रदर्शन है। इस समय टीम की ताकत उसके 24 वर्षीय स्पिनर मिशेल सेंटनेर को माना जा रहा है जिन्होंने हर मैच में अपने निरंतर प्रदर्शन और विकेट निकालने से टीम की जीत में भूमिका निभाई है। सेंटनेर ने पिछले चार मैचों में 5.73 के इकॉनमी रेट और 9.55 के औसत से नौ विकेट लिए हैं और वह टीम के सबसे सफल गेंदबाज हैं।

कीवी गेंदबाजों ने दिखाया है दम
हालांकि अगर ओवरऑल देखें तो सेंटनेर के अलावा बाकी गेंदबाज भी उतना ही अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। न्यूजीलैंड के लगभग सभी गेंदबाजों ने विकेट लेने में सफलता हासिल की है और टीम के लिए अपनी जिम्मेदारी निभाई है। अन्य स्पिनर ईश सोढी दूसरे सफल गेंदबाज हैं जिन्होंने 4.97 के इकॉनमी रेट से आठ विकेट लिए हैं जबकि मध्यम तेज गेंदबाज मिशेल मैकक्लेनगन, कोरी एंडरसन, एडम मिल्ने, ग्रांट इलियट, नाथम मैक्कलम और केन विलियम्सन ने भी विकेट निकाले हैं और रन भी बनाए हैं।

कीवी बल्लेबाजी का जवाब नहीं
न्यूजीलैंड के पास बेहतरीन बैटिंग ऑर्डर के साथ कप्तान केन विलियम्सन जैसे बढ़िया ओपनर हैं तो मिडिल ऑर्डर में उसे रॉस टेलर, कोरी, ग्रांट, ल्यूक रोंची और कोलिन मुनरो संभाल रहे हैं और यही उसके बैटिंग ऑर्डर की ताकत है कि टीम अपने एकाध बल्लेबाजों या किसी एक गेंदबाज पर निर्भर है। पाकिस्तान के खिलाफ अहम मुकाबले में गप्टिल ने 80 रन और मध्यक्रम में टेलर ने नॉटआउट 36 रन बनाकर स्कोर को 180 तक पहुंचा दिया था।

पूर्व चैंपियन इंग्लैंड के सामने गप्टिल पर काफी जिम्मेदारी रहेगी। वह पिछले तीन मैचों में 41.66 के औसत से एक हाफसेंचुरी सहित 125 रन बनाकर सर्वश्रेष्ठ स्कोरर हैं। साथ ही टेलर दूसरे और केन तीसरे बेहतरीन स्कोरर में हैं और खिताबी मुकाबले में जगह बनाने के लिये कीवी टीम को अधिक सतर्कता बरतनी होगी जहां विपक्षी टीम इंग्लैंड से उसे कड़ी चुनौती मिलेगी।

आंकड़े इंग्लैंड के पक्ष में
न्यूजीलैंड को भले ही इंग्लिश टीम के खिलाफ फेवरेट माना जा रहा हो लेकिन पिछले आंकड़े भी इस बात की तस्दीक करते हैं कि कीवी टीम आखिरी पड़ाव पर ही हथियार डाल देती है। सेमीफाइनल तक के सफर में वह भले ही अपराजेय रही हो लेकिन इंग्लैंड बड़े उलटफेर में माहिर है और इसके लिए उसके दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टूर्नामेंट के सबसे अधिक स्कोर वाले मैच को याद किया जा सकता है।

लक्ष्य का पीछा करने में माहिर इंग्लैंड
इयोन मोर्गन की कप्तानी वाली इंग्लिश टीम भले ही पहला मैच वेस्टइंडीज से 182 रन का मजबूत स्कोर बनाने के बावजूद हारी हो लेकिन अगले मैच में उसने दक्षिण अफ्रीका के 230 रन के लक्ष्य को भी बौना साबित कर दिया था। इंग्लैंड के पास कमाल का बल्लेबाजी लाइनअप है और वह बड़े लक्ष्य का पीछा करने में सक्षम है जो उसकी ताकत भी है।

रूट की जोरदार फॉर्म
टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज जो रूट उसके धाकड़ खिलाड़ी हैं और 42 के औसत से 168 रन बनाए हैं। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 83 रन की पारी की बदौलत वह मैन ऑफ द मैच रहे थे। इसके अलावा जोस बटलर दूसरे और जेसन रॉय तीसरे बेस्ट स्कोरर हैं। कप्तान मोर्गन ने भी बल्ले से प्रभावित किया है और न्यूजीलैंड के खिलाफ इनकी अहम भूमिका रहेगी।
हालांकि कीवी टीम के मजबूत बैटिंग ऑर्डर को थामने की जिम्मेदारी इंग्लिश गेंदबाजों डेविड विली, क्रिस जॉर्डन, आदिल रशीद और मोइन अली के कंधों पर है।

इंग्लैंड के लिए महंगी गेंदबाजी सिरदर्द
श्रीलंका के खिलाफ अपने आक्रामक व्यवहार के लिए जुर्माना झेलने वाले विली सर्वाधिक छह विकेट ले चुके हैं जबकि मध्यम तेज गेंदबाज जॉर्डन पिछले मैचों में पांच विकेट ले चुके हैं। रशीद और मोइन अली ने चार-चार विकेट लिए हैं। लेकिन इंग्लैंड को अपनी महंगी गेंदबाजी से बचना होगा। टीम के सभी गेंदबाजों ने काफी महंगी गेंदबाजी की है और विली, जॉर्डन का आठ से अधिक का इकॉनमी रेट रहा है जबकि रशीद का 9.45 और अली का सबसे खराब 10.08 का इकॉनमी रेट रहा है।

इंग्लैंड अगर इस दिशा में सुधार नहीं करता है तो न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों को निश्चित ही इसका फायदा मिलेगा और यह इंग्लैंड के लिए मुसीबत बन सकता है।

Khushboo Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.