RSS ने आज़ादी की लड़ाई में गाँधी, भगत सिंह और सुभाष बोस का किया था विरोध

RSS ने आज़ादी की लड़ाई में गाँधी, भगत सिंह और सुभाष बोस का किया था विरोध





RSS सबसे ज़्यादा राष्ट्रवाद की बात करता है, वह आज़ादी की लड़ाई में कहाँ था ? उसने गाँधी जी का ही नहीं, भगत सिंह और सुभाष बोस का भी विरोध किया!

Facebook,Twitter और You Tube पर हमें फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें-  

RSS का गठन 1925 में हुआ था यानी असहयोग आंदोलन की पृष्ठभमि में। संगठन का उद्देश्य ख़ासतौर पर हिंदुओं को गाँधी के ‘चक्कर’ से बचाना था! उसे न अंग्रज़ों से कोई दिक़्क़्त थी और न वह ऐसी आज़ादी चाहता था जो सबके भले के लिए हो, यानी हिंदुत्व नहीं भारतीयता की बात करता हो!

यह वजह है कि भगत सिंह जैसे क्रांतिकारी के विचारों अपने स्वयंसेवक को प्रभावित होने से बचाने के लिए, संस्थापक डॉ. हेडगवार ने एक महीने तक ‘ क्लास’ ली! यही नहीं, जब सुभाष चंद्र बोस आज़ाद हिंद फ़ौज के ज़रिये अंग्रेज़ों से मोर्चा ले रहे थे तो सावरकर को आगे करके RSS ने अंग्रेज़ी सेना में ‘हिंदुओं’ की भर्ती के कैंप लगवाये!




ह सारी महत्वपूर्ण जानकारियाँ इस बातचीत में है जो वरिष्ठ राजनीतिक चिंतक और दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व शिक्षक शम्सुल इस्लाम से पत्रकार पंकज श्रीवास्तव ने की!

Nadeem Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.