म्यांमार पर सख्त प्रतिबंध लगाया जाए: ह्यूमन राइट्स वॉच

0
253 views
A woman, who says she belongs to the Rohingya community from Myanmar, washes clothes as children play in a camp in New Delhi September 13, 2014. REUTERS/Anindito Mukherjee

मानवाधिकार विश्व संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच ने मंगलवार को म्यांमार को राखेन में मुस्लिम विद्रोहियों के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर मानवता के खिलाफ अपराध में दोषी होने का आरोप लगाया है।



पढ़े- रोहिंग्या मुसलमानो के समर्थन में उतरी शबाना आजमी

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उसके खिलाफ बहुपक्षीय प्रतिबंधों के साथ ही हथियारों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। ह्यूमन राइट्स वॉच ने एक बयान में साफ तौर पर कहा कि प्रमाणित स्रोतों और सेटेलाइट की तस्वीरों से पता चलता है कि म्यांमार मानवता के खिलाफ अपराध कर चुका है, जिसके लिए उस पर कड़े प्रतिबंध होने चाहिए।

Facebook और  You Tube पर हमें फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें




म्यांमार सरकार के प्रवक्ता ने इन आरोपों का खंडन करते हुए कहा कि मानवता के खिलाफ अपराध के पुख्ता सबूत नहीं हैं, और सरकार मानवाधिकारों के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है। इससे पहले म्यांमार ने संयुक्त राष्ट्र के उस बयान को भी खारिज कर दिया है, जिसमें विश्व संस्था ने म्यांमार सरकार की कार्रवाई को ‘संगठित नरसंहार’ करार दिया था।



पढ़े- रोहिंग्या मुसलमानों कि मदद कैसे कि जाए पाकिस्तान-बांग्लादेश से सिखे- मलाला

म्यांमार सरकार का कहना है कि सेना उनके विद्रोही आक्रमणकारियों के खिलाफ युद्ध लड़ रहे हैं, जो पुलिस और सैन्य कर्मियों पर हमले कर रहे हैं। नागरिकों की हत्या करते हैं और बस्तियों को जलाते हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY