ताजमहल भारतीय संस्कृति का हिस्सा नहीं- सीएम योगी आदित्यनाथ

ताजमहल भारतीय संस्कृति का हिस्सा नहीं- सीएम योगी आदित्यनाथ





उत्तर प्रदेश: यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वर्ल्ड फेमस ताज महल को संस्कृति का हिस्सा मानने से इनकार कर दिया है।

उनके लिए ताजमहल एक इमारत के सिवा कुछ नहीं है। बिहार के दरभंगा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, भारत आने वाले विदेशी गणमान्य शख्सियतों को ताजमहल और अन्य मीनारों की प्रतिमाएं भेंट करते थे जो भारतीय संस्कृति को प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

लेकिन मोदी जी का राज आने के बाद ये चीज़ें बदल गई है। अब लेकिन अब यानी मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से विदेशी गणमान्य जब भारत आते हैं तो वो भगवद गीता और रामायण की प्रति भेंट की जाती है।

Facebook और  You Tube पर हमें फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें-

योगी के इस बयान पर देश के इतिहासकार उनका विरोध करते हैं।

द टेलीग्राफ’ से बातचीत में पटना यूनिवर्सिटी की इतिहास की प्रोफेसर डेजी नारायण ने कहा कि मध्यकालीन और पूर्व आधुनिक काल को कुछ लोग भारतीय इतिहास का इस्लामिक युग मानते हैं।




यह तथ्य चौंकाने वाला है, जबकि पूरी दुनिया में ताजमहल को भारतीय धरोहर के रूप में ख्याति मिली हुई है। वहीँ देश के कुछ लोग भारतीय इतिहास को पुनर्परिभाषित करना चाहते हैं और तथ्यों के साथ खिलवाड़ करना चाहते हैं।

admin

The author didn't add any Information to his profile yet.