दिल्ली में ऑड-ईवन का दूसरा दिन पहले दिन पर कई जगह लगा जाम-P2N

0
401 views
RAJDHANI MEIN VEERVAR KO BARISH KE DAURAN ITO PAR LAGA YATAYAT JAAM.
RAJDHANI MEIN VEERVAR KO BARISH KE DAURAN ITO PAR LAGA YATAYAT JAAM.

नई दिल्ली। रामनवमी के दिन से शुक्रवार को दिल्ली सरकार वाहनों के लिए ऑड-ईवन योजना का दूसरा चरण शुरू कर रही है। दिल्ली की सड़कों पर एक दिन ऑड और उसके अगले दिन ईवन नंबर की गाड़ियां चलेंगी। ऑड-ईवन का मतलब है गाड़ी की नंबरप्लेट का आख़िरी नंबर सम है या विषम। 15 अप्रैल को ऑड नंबर वाली गाड़ियों को दिल्ली की सड़कों पर चलने की इजाज़त होगी और 16 अप्रैल को ईवन नंबर के वाहन चलेंगे। दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण से निपटने के लिए यह योजना दूसरी बार 15 दिन के लिए चलाई गई है। पिछली बार एक जनवरी से 15 जनवरी के बीच इसका पहला चरण लागू किया गया था। शहरवासियों के लिए  मैट्रो ट्रेन के फेरे बढ़ा दिए गए हैं और राजधानी में अतिरिक्त बसें चलाई जाएंगी। आॅड-ईवन के पहले दिन लोगो को कई जगह जाम की मार छेलनी पडी इस पर जाम में फसें लोगो ने कहा की आॅड ईवन के चलते उन्हें काफी परेशानी छेलनी पड रहीं हैं।

इस दौरान क़रीब 2000 ट्रैफ़िक कर्मचारी और साढ़े पांच सौ से ज़्यादा अधिकारियों व इनके साथ पांच हज़ार से ज़्यादा स्वयंसेवक भी दिल्ली की सड़कों पर तैनात रहेंगे। दिल्ली के परिवहन मंत्री गोपाल राय ने कहा कि “योजना को सही ढंग से लागू करने के लिए पूरे शहर को 11 ज़ोन में बांटा गया है। हर ज़ोन में दस सेक्टर होंगे। इसके अलावा हर सेक्टर में एक मोबाइल प्रवर्तन टीम लागू होगी। “योजना लागू करने वाली टीमों को दस बिंदुओं पर फ़ोकस करने को कहा गया है, जिनमें शहर के सभी अहम रेलवे स्टेशन, बस अड्डे, अस्पताल, स्कूल-कॉलेज, कारोबारी केंद्र, शहर की सीमाएं और भीड़भाड़ वाले इलाक़े शामिल किए हैं।

उल्लंघन करने पर चालान

यह फ़ॉर्मूला दिल्ली में और दिल्ली के बाहर पंजीकृत सभी गाड़ियों पर ऑड-ईवन नंबर प्लेट वाला लागू होगा। ट्रैफ़िक पुलिस, परिवहन विभाग और अधिकारी सड़क पर उतरेंगे और नियमों का उल्लंघन करने वालों का मोटर व्हीकल एक्ट के तहत 2000 रुपए का चालान काटा जाएगा।

इनको है आड ईवन में छूट

योजना में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सुप्रीम कोर्ट के सभी न्यायाधीश, लोकसभा स्पीकर और डिप्टी स्पीकर, राज्यसभा के उपसभापति, लोकसभा और राज्यसभा में विपक्ष के नेता, केंद्रशासित प्रदेशों और सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को इसमें रियायत मिलेगी। हाईकोर्ट के न्यायाधीशों और लोकायुक्त को इससे अलग रख गया है। अर्धसैनिक बलों, रक्षा मंत्रालय और विशेष सुरक्षा समूह के वाहन भी ऑड-ईवन फ़ॉर्मूला में नहीं आएंगे।

ये भी नहीं आएंगे ऑड ईवन में

अकेली महिला ड्राइवरों, महिला ड्राइवर के साथ 12 साल तक की उम्र वाले बच्चे गाड़ी में बैठे हों तो उन्हें भी छूट मिलेगी। आपातकालीन वाहन, एम्बुलेंस, फ़ायर, अस्पताल, जेल, एन्फ़ोर्समेंट वाहनों को इससे अलग रख गया है। अर्धसैनिक बलों, रक्षा मंत्रालय और विशेष सुरक्षा समूह के वाहन भी ऑड-ईवन फ़ॉर्मूला में नहीं आएंगे। बीमारों को अस्पताल ले जाने के लिए इमरजेंसी वाहन इसमें शामिल नहीं हैं। विकलांगों के वाहनों को भी ऑड-ईवन फ़ॉर्मूले से अलग रखा गया है। सीएनजी से चलने वाली, इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड कारों को इसमें छूट होगी। दोपहिया वाहनों को भी इसमें शामिल नहीं किया गया है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY