वकार साहब का सीखा रहे आरक्षण का गुणा-भाग

वकार साहब का  सीखा रहे आरक्षण का गुणा-भाग




दिल्ली(पल पल न्यूज) ऑफिस हो, ट्रेन हो या बस की यात्रा ऐसी किसी भी सार्वजनिक जगह में कई बार आरक्षण को लेकर बहस छिड़ जाती है, लेकिन अच्छे तर्क ना होने की स्थिति में ना चाहते हुए भी लोग जातिवादियों की बातें सुनकर चुप हो जाते हैं | आपके आरक्षण के प्रति ज्ञान को साधारण सेे शब्दों में समझाया है फेसबुक पर सक्रिय वकार अहमद साहब ने | जिनको आप फेसबुक पर waqar ahmad aipmm के नाम से देखते हैं | आप भी पढ़िए इनका आरक्षण का गणित |

 Twitter पर follow करें

माना कि 100 व्यक्ति हैं. और इन 100 व्यक्तियों कोे खाने के लिए 100 रोटियां हैं। वर्तमान में पिछड़ी जाति OBC के 60 व्यक्तियों को खाने के लिए 27 रोटियों की व्यवस्था है। इसी तरह अनुसूचित जाति SC व जनजाति ST के 25 व्यक्तियों के एक समूह के लिए 22.5 रोटियों की व्यवस्था है। अब सामान्य वर्ग के तकरीबन 15 आदमियों के लिए 50 रोटियां शेष बचती हैं |

‘मंत्री के बंगले पर पोंछा लगाती हूं” इसलिए स्कूल नहीं जाती : नाबालिग

समस्या ये है कि सामान्य वर्ग GENERAL के 15 आदमियों में से 3% ब्राम्हण जाति के आदमी बेहद शक्तिशाली हैं जो शेष बची 50 रोटियों में से लगभग 45 रोटियां खा जा रहे हैं | अब समस्या ये है कि सामान्य वर्ग के 12 आदमियों के लिए मुश्किल से सिर्फ 5 रोटियां ही मिल पा रहीं हैं | इसी कारण सामान्य जाति के जाट, मराठा, लिंगायत, पटेल या पाटीदार अपने लिए OBC की 27 रोटियों में हिस्सेदारी मांग रहे हैं   |

41 साल बाद की मां से मुलाकात, बेटी को देख भर आया मां का दिल

अब समस्या ये है कि ओबीसी के 60 लोग वैसे ही सिर्फ 27 रोटियों पर गुजारा करके अपनी जिंदगी चला रहे हैं ऐसे में वो जाट, मराठा और लिंगायत में अपने हिस्से की 27 रोटियां बांटने को हरगिज तैयार नही हैं। इस समस्या का एक ही समाधान है कि कोर्ट द्वारा निर्धारित की गई *50% आरक्षण* की सीमा रेखा को लांघा जाऐ और जाट, मराठा, और लिंगायत के साथ साथ सभी जातियों को उनकी संख्या के अनुपात में शिक्षा & नौकरियों में आरक्षण दिया जाऐ। अब *60 लोगों* के हिस्से की *27 रोटियों* पर *झपट्टा मारने* से बात नही बनेगी।

जरूरत इस बात की है कि सारी पिछड़ी जाति OBC* के लोग *और पटेल, जाट, गूजर , अहीर , यादव , गडरिया , सुनार, लोहार , कुम्हार , कश्यप , निषाद , कुशवाहा , सैनी, माली , मराठा, लिंगायत आदि एक मंच पर आएं और उन 3% ब्राह्मण लोगों से अपना हिस्सा छीनें जो सिर्फ *3% होकर 45 रोटियां तोड़े जा रहे हैं। अगर ये ब्राह्मण जाति के 3 लोग सिर्फ 3 रोटी खाकर जीना सीख ले तो समाज मे कोई भी भूखा नहीं रहेगा।  अगर आरक्षण का गणित अभी नहीं समझेंगे तो कभी नहीं समझेंगे आप।

इससे आसान उदाहरण नहीं मिलेगा।

PRAGATI SHARMA

The author didn't add any Information to his profile yet.