किसका विकास किसके लिए विकास भारत को भारत ही रहने दो अफ्रीका मत बनाओ-P2N

किसका विकास किसके लिए विकास भारत को भारत ही रहने दो अफ्रीका मत बनाओ-P2N

किसका विकास किसके लिए विकास क्या इस देश में सिर्फ पूंजीपतियों के लिए किया जायगा विकास या भारत को भारत के नजरिये से देखकर होगा विकास ।

माना बुलेट ट्रेन की डील होने से कुछ मजदुरो को रोजगार मिल जायगा । शायद जी डी प़ी में कुछ अंको की बढोतरी भी हो जाय पर जी डी प़ी का पैमाना क्या हो । सवाल बहुत है सरकार की नियत भी ठीक है पर दिशा पर शंका है ।

विकास की बात को लेकर अपनी अवाज उठाते हैं विकास के मुद्दे को लेकर ही देश में चलते हैं, असल में क्या हैं विकास मोदी जी देश का विकास हो रहा हैं नयी-2 तरह की स्किम भी शुरू हो रही हैं पर देश में बेरोजगारी भी बढ रहीं हैं। इसका ताजा उदहारण हैं गुडगांव की वो दो बहनें  जिन्होनें रोजगार ना मिलने पर आत्महत्या कर ली यें कैसा विकास हैं।

अन्धो के पीछे चलेगा देश तो गड्डे में ही गिरेगा । पहले ब्रिटेन का माँडल अपनाया फिर रूस का , अब चले है अमेरिका की राह पर , अमेरिका तो नहीं बन पा रहे अफ्रीका बनते जा रहे है अंधभक्तो से सलाह है भारत को भारत ही रहने दो अफ्रीका मत बनाओ ।

भारत की सोच मानव केन्द्रित नहीं है उसका अपना दर्शन है प्रकृति केन्द्रित विकास जिव जगत जगदीश इसमें समग्र भारतीयता का दर्शन है । देश का विकास अपनी समस्याओं को भारतीय नजरिये से सुलझा कर ही किया जा सकता है।

विकास का पैमाना लोगों के जीवन स्तर में हुआ सुधार है। आने वाले समय में विकास की संकल्पना में एक बड़ा बदलाव करने की जरुरत है और इसके लिए आर्थिक पूंजी की जगह सांस्कृतिक पूंजी को तरजीह दी जाय। इस मामले में भारत काफी आगे है। समाज आगे सत्ता पीछे तब होगा स्वस्थ समाज समाज पीछे सत्ता आगे तब होगा विनाश और तब होगा देश का विकास।

हमरा मकसद इस खबर से किसी पार्टी को बदनाम करना नहीं हैं उसकी कार्यप्रणाली पर हमें कोई शंका नहीं हैं  बस पल पल न्यूज के माध्यम से देश में बढ रहीं हर पल की  बेरोजगारी से केंद्र की सरकार का ध्यन अपनी और खिंचना चाहता हूं जिसे बेरोजगारी की मार छेल रहें लोगो को रोजगार मिल सके और किसी घर की बेटी और किसी घर का बेटा अपनी जान ना दें पाए।

Khushboo Akhtar

The author didn't add any Information to his profile yet.