मुस्लिमों से जामिया निज़ामिया ने की टीवी बहस में हिस्सा न लेने की अपील

शेख-उल-जामिया (उप-कुलपति) जामिया निजामिया मुफ्ती खलील अहमद ने एक बयान में कहा कि सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती सभी धर्मों के लोगों के लिए एक अत्यंत सम्मानित व्यक्तित्व है।

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
19 June 2020 @ 16:25
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
Nizamiya

न्यूज 18 टीवी के एंकर अमीश देवगन द्वारा सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के खिलाफ इस्तेमाल किए गए कथित अपमानजनक शब्दों पर कड़ी निंदा जताते हुए भारत की सबसे पुरानी इस्लामी संस्था जामिया निजामिया ने देश भर के मुसलमानों से टीवी चैनलों पर किसी भी चर्चा या बहस में हिस्सा नहीं लेने की अपील की है।

बता दें कि शेख-उल-जामिया जामिया निजामिया मुफ्ती खलील अहमद का इस मामले पर एक बड़ा बयान आया है, उन्होंने अपने बयान में कहा कि सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती  सभी धर्मों के लोगों के लिए एक अत्यंत सम्मानित व्यक्तित्व है। लेकिन टीवी एंकर द्वारा अपमानजनक भाषा के उपयोग की सभी धर्मों के लोगों द्वारा निंदा की जाएगी। टीवी चैनल और उसके एंकर इसके लिए समान रूप से जिम्मेदार हैं और उन्हें जवाबदेह भी ठहराया जाना चाहिए।

Nizamiya

आगे उन्होंने ये भी कहा कि सभी मुसलमानों से किसी भी टीवी चैनल की बहस में हिस्सा नहीं लेने का आग्रह किया।  टीवी चैनल की चर्चाओं और बहसों में भाग लेकर, जाने-अनजाने में मुसलमान विरोधियों की साजिशों का शिकार हो रहे हैं। जामिया निजामिया के कुलपति ने यह भी कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें इस शरारती प्रथा को रोकने के लिए प्रयास करेंगी क्योंकि इससे हिंदू-मुस्लिम समुदायों के बीच दुश्मनी हो सकती है।

बता दें की टीवी एंकर के खिलाफ पूरे देश में लोग गुस्से में  है और कई राज्यों के पुलिस स्टेशनों पर पुलिस शिकायतें दर्ज की जा रही हैं।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें