यूपी पंचायत चुनाव में बीजेपी को करारा झटका

राज्य की 3,050 जिला पंचायत सीटों में से 3,047 के परिणाम आ गए हैं। इनमें बीजेपी ने 768 पर जीत हासिल की है, जबकि एसपी और आरएलडी गठबंधन ने 828 सीटें जीती हैं। वहीं, 944 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते हैं, जिनके पास जिला पंचायत अध्यक्ष के पदो की कुंजी है।

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
5 मई 2021 @ 18:49
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
yogi adityanath

नवजीवन में छपी ख़बर के अनुसार  उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों में सत्तारूढ़ बीजेपी को करारा झटका लगा है। राज्य की 3,050 जिला पंचायत सीटों में से 3,047 के परिणाम घोषित हो चुके हैं, जिनमें से बीजेपी ने 768 पर जीत हासिल की है, जबकि एसपी और आरएलडी गठबंधन ने 828 सीटें जीती हैं। एसपी ने अकेले अपने दम पर 760 सीटें हासिल की हैं।

पंचायत चुनाव में 944 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते हैं और अब इन्हीं के पास जिला पंचायत अध्यक्षों के पद की कुंजी है। ऐसे में बीजेपी, जिसके पास पंचायत अध्यक्ष के पदों के लिए सीटों का अभाव है, अब इन्हीं निर्दलीय उम्मीदवारों पर नजर गड़ाए हुए है। इन निर्दलियों के मदद के भरोसे बीजेपी अब अपने सदस्यों को जिला पंचायत अध्यक्षों के रूप में निर्वाचित कराने के दावे कर रही है।

बीजेपी को मिली करारी हार पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा, "इन चुनावों के साथ, बीजेपी को राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में अपने पैरों के निशान मिल गए हैं। हम समाज के गरीब और वंचित वर्गों तक पहुंचने के अपने प्रयासों को जारी रखेंगे और सुनिश्चित करेंगे कि उन्हें सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिले।"

समाजवादी पार्टी, जिसने खुद को पंचायत चुनावों में सत्तारूढ़ पार्टी के लिए मुख्य चुनौती के रूप में तैनात किया है, भविष्य के बारे में सतर्क है। पार्टी प्रवक्ता जूही सिंह ने कहा, "इन चुनावों ने एक स्पष्ट संकेत दिया है कि लोगों ने सत्तारूढ़ बीजेपी में विश्वास खो दिया है। शासन की कमी, किसानों के आंदोलन और घटिया कोविड प्रबंधन ने बीजेपी के ग्राफ को नीचे लाया है।''

पंचायत चुनाव परिणामों से यह भी संकेत मिलता है कि बीजेपी के हिंदू कार्ड से वांछित परिणाम नहीं निकले। पार्टी अपने हिंदुत्व के तख्तों के प्रमुख केंद्र अयोध्या, वाराणसी और मथुरा में हार गई है, और एसपी ने यहां जमीन हासिल की है। मथुरा में बीजेपी के जिलाध्यक्ष मधु शर्मा ने कहा कि वे जनता के जनादेश को स्वीकार करते हैं। हम बहुमत नहीं मिलने के कारणों का पता लगाएंगे और इस पर काम करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि कोरोना के कारण, उनके कई कार्यकर्ता और नेता चुनावों में प्रभावी ढंग से प्रचार नहीं कर सके।

बीजेपी ने पश्चिमी यूपी में भी खराब प्रदर्शन किया है, जो किसानों के आंदोलन का केंद्र बिंदु रहा है और बीजेपी के नुकसान के कारण यहां राष्ट्रीय लोकदल के पुनरुत्थान को बढ़ावा मिला, जिसे 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों के बाद फिर से मौका मिला गया है। एक वरिष्ठ पत्रकार ने कहा, "योगी आदित्यनाथ के लिए यह एक सचेत आह्वान होना चाहिए। अक्सर इन पंचायत चुनावों में सत्ताधारी पार्टी को एडवांटेज मिलता है, लेकिन बीजेपी को नुकसान पहुंचा है, जिसका संकेत साफ है।“

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें