ऑपरेशन थिएटर में गैंगरेप मामला:पीड़िता ने तोड़ा दम

ऑपरेशन के दूसरे दिन भाई को लिखकर बताया था- डॉक्टर अच्छे नहीं, मेरे साथ गंदा काम किया; डॉक्टर बोले- आरोप गलत

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
8 जून 2021 @ 14:56
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
Gangrape In SRN Hospital Prayagra

भास्कर में छपी खबर के अनुसार प्रयागराज के स्वरूपरानी नेहरू (SRN) हॉस्पिटल के ऑपरेशन थिएटर में जिस युवती के साथ कथित गैंगरेप हुआ था, मंगलवार सुबह उसकी मौत हो गई। युवती को यहां 31 मई की रात गंभीर हालत में भर्ती कराया गया था। उसी रात उसकी आंत का ऑपरेशन किया गया था। 2 जून को होश में आने के बाद युवती ने आरोप लगाया था कि उसके साथ गैंगरेप हुआ है। युवती ने अपने भाई को लिखकर कहा था, 'डॉक्टर अच्छे नहीं हैं। उन्होंने मेरे साथ गंदा काम किया।'

पीड़िता की मौत पर पूरा मामला तूल पकड़ता जा रहा है। सपा नेत्री ऋचा सिंह ने पुलिस और डॉक्टर्स पर गंभीर आरोप लगाए हैं। ऋचा ने कहा है कि पीड़िता की मौत एक बड़ी साजिश है। पुलिस दोषियों को बचाने में जुटी हुई है। एक हफ्ते बाद भी पुलिस ने इस मामले में FIR नहीं दर्ज की। ये बेटी के साथ अन्याय है। हॉस्पिटल में भी बड़ी संख्या में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता पहुंच गए हैं।

पीड़िता ने यह लिखा था
पीड़िता मिर्जापुर से प्रयागराज के स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल में इलाज कराने आई थी। उसके भाई ने बताया कि पीड़िता मिर्जापुर की रहने वाली है। उसकी आंत का ऑपरेशन किया गया था। आंत के ऑपरेशन के बाद दे रात जब उसे वार्ड में छोड़ा गया तो वह अचेत लग रही थी और कुछ कहना भी चाह रही थी। जब उसे पेन और कागज दिया तो उसने कंपकंपाते हाथों से लिखा कि डॉक्टर अच्छे नहीं हैं। सब मिले हैं। कोई इलाज नहीं किया और मेरे साथ गंदा काम किया। उसने लिखकर बताया कि चार लोगों ने उसके साथ रेप किया है। युवती के लिखते हुए भी उसके चचेरे भाई ने वीडियो बनाया है और उसको भी वायरल कर दिया है।वीडियो में उसका सगा भाई भी बैठा हुआ है।

मेडिकल रिपोर्ट में रेप की पुष्टि नहीं
डॉक्टर्स की एक कमेटी ने जांच के बाद रेप के आरोपों को खारिज कर दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि गलतफहमी के चलते ये आरोप लगाया गया है। ये मेडिकल रिपोर्ट पुलिस को भी जांच टीम ने सौंप दी है।
हॉस्पिटल प्रशासन पहले ही आरोपों को सिरे से खारिज कर चुका है। प्रिंसिपल डॉ. एसपी सिंह का कहना है कि युवती के ऑपरेशन में 8 लोगों की ड्यूटी लगी थी। इसमें 5 लेडी स्टाफ शामिल थीं।

प्रिंसिपल ने कहा- आंत सड़ चुकी थी, डॉक्टर ने काफी मेहनत करके ऑपरेशन किया
मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. एसपी सिंह ने युवती के भाई के आरोपों को गलत ठहराया। उन्होंने कहा कि युवती के आंत में इंफेक्शन था। काफी हिस्सा सड़ चुका था। उसे काटकर अलग किया गया। जांच कमेटी की रिपोर्ट भी आ गई है। इसमें तीन महिला और एक पुरुष डॉक्टर शामिल थे। जांच में भी यही पाया गया है कि युवती और उसका भाई गलतफहमी का शिकार हुए हैं। ऑपरेशन के दौरान 8 मेडिकल स्टाफ और डॉक्टर की टीम थी। इसमें 5 महिलाएं थीं।

आंत के ऑपरेशन से पहले प्राइवेट पार्ट की सफाई की जाती है और ऑपरेशन के बाद उसमें नली लगाई जाती है, ताकि मरीज पेशाब कर सके। मरीज जब बेड पर आई तब भी उसके प्राइवेट पार्ट की सफाई हुई, ताकि इंफेक्शन न फैले और फिर उसमें पेशाब के लिए नली लगा दी गई। ये सब काम महिला स्टाफ ही करती हैं। ऐसे में हो सकता है कि युवती बेहोशी के हालत में इसे गलत समझ ली हो।SHO बोले- परिजन जो चाहेंगे होगा
कोतवाली SHO अंजनी कुमार सिंह ने कहा कि युवती की सुबह साढ़े आठ बजे डेथ हुई है। परिजन अभी पोस्टमार्टम को लेकर असमंजस में हैं। परिजन जो कहेंगे वही होगा। फिलहाल मौके पर मेडिकल कॉलेज व पुलिस प्रशासन के कई अफसर पहुंच गए हैं। बवाल की आशंका को देखते हुए पोस्टमार्टम हाउस के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस बल लगा दिया गया है।

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें