रोहिंग्या मुसलमानों पर क्यों चूक गए ओआईसी और आसेआन?

म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों के जनसंहार और उनके विस्थापन की ओर से लापरवाही बरतने वाला एक महत्वपूर्ण संगठन आसेआन भी है। इसके अलावा ओआईसी और दक्षेस भी इसी प्रकार के संगठनों में शामिल हैं।

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
17 जून 2021 @ 10:31
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
OIC Pal Pal News

आसेआन निश्चित रूप से अगर म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों की दशा पर कुछ प्रभावी भूमिका निभा सकता था क्योंकि म्यांमार इस संगठन में खुद भी शामिल है।

इस लिए अगर यह संगठन रोहिंग्या पर कड़ा रुख अपनाता तो निश्चित रूप से उस पर असर होता।

ओईआईसी का गठन मूल रूप से फ़िलिस्तीन संकट पर मुस्लिम जगत को मज़बूत संयुक्त स्टैंड लेने के लिए हुआ था।

इस संगठन से आम तौर पर यह आशा रखी जाती है कि वह मुसलमानों के अधिकारों से जुड़ा कहीं कोई बड़ा मुद्दा हो तो उस पर अपनी राय रखे और अपने स्तर से उस मुद्दे के समाधान के लिए पहल करे।

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें