आजम खां के दुखों का अंत तभी होगा जब इस सरकार का अंत होगा- शहजादा कलीम

राजनीति ना जज़्बात से की जाती है और न समझी जा सकती है ।

Share
Written by
12 अक्टूबर 2021 @ 10:59
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
Azam

नेता को किस वक्त कहाँ होना चाहिए , उसे पता होता है । ओसामा शहाबुद्दीन के निकाह के वक्त ओसामा के बिलकुल बगल में बैठे हुए तेजस्वी यादव आपको यही समझा रहे हैं ।

ओसामा को अगर तेजस्वी से शिकायत होती तो तेजस्वी निकाह के मंच पर उनके बगल में न बैठे होते ।

यही हाल आज़म ख़ान वाले प्रकरण का है । आज़म ख़ान जेल में गए , बहुत सारे ऐसे लोगों को आज़म ख़ान से हमदर्दी हो गयी जिन्होंने अपनी पूरी ज़िंदगी उन्हें गाली देने में गुज़ार दी ।

Kaleem

उन्होंने आज़म ख़ान के कंधे पर रखकर सपा पर वार करने में कोई कोर कसर ना रखी, लेकिन जब आज़म ख़ान की पत्नी जेल से आयी तो उनका बयान यही था कि पार्टी पूरी तरह से उनके साथ खड़ी है ।

जब आज़म ख़ान जेल से लखनऊ के अस्पताल में इलाज के लिए पहुँचे तो उनके बड़े बेटे और उनकी बहु का बयान सबने देखा कि अखिलेश यादव के हम शुक्रगुज़ार है कि उन्होंने आज़म ख़ान साहब को अस्पताल में इलाज में मदद की ।

Azam

आज़म ख़ान या अब्दुल्ला आज़म खान का जेल से आने का इंतज़ार कीजिए , अगर वो चुनाव से पहले वापस आए तो अपनी पार्टी की सरकार बनवाने के लिए जी जान लगा देंगे , अगर नहीं आए तो आज़म ख़ान साहब की पत्नी प्रचार की कमान सम्भालेंगी क्योंकि उन्हें पता है कि उनके दुखों का अंत तभी होगा जब इस सरकार का

अंत होगा ।

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें