कश्मीर कभी भी पाकिस्तान का हिस्सा नहीं हो सकता: फारूक अब्दुल्ला

स्कूल की प्रिंसिपल सुपिंदर कौर को श्रद्धांजलि देने के लिए यहां एक गुरुद्वारे में आयोजित शोकसभा को संबोधित करते हुए अब्दुल्ला ने कहा- “कश्मीर कभी पाकिस्तान का हिस्सा नहीं बनेगा क्योंकि हम भारत का हिस्सा हैं और रहेंगे, भले ही मुझे गोली मार दी जाए।

Share
Written by
14 अक्टूबर 2021 @ 00:36
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
farooque abdullah

श्रीनगर: कश्मीर में जारी हालिया घटना के बीच नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने बहुत बड़ा बयान दे दिया है। पाकिस्तान को दो टूक शब्दों में फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि कश्मीर कभी भी पाकिस्तान का हिस्सा नहीं हो सकता।
बुधवार को श्रीनगर में सरकारी स्कूल की प्रिंसिपल सुपिंदर कौर को श्रद्धांजलि देने के लिए यहां एक गुरुद्वारे में आयोजित शोकसभा को संबोधित करते हुए अब्दुल्ला ने कहा- “कश्मीर कभी पाकिस्तान का हिस्सा नहीं बनेगा क्योंकि हम भारत का हिस्सा हैं और रहेंगे, भले ही मुझे गोली मार दी जाए।
कौर की सात अक्टूबर को आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उन्होंने आगे कहा कि कश्मीर के लोगों को साहसी बनना पड़ेगा और मिलकर हत्यारों से लड़ना होगा। श्रीनगर से लोकसभा सदस्य फारूक अब्दुल्ला ने आक्रमक अंदाज में कहा कि हमें इन जानवरों से लड़ना होगा। कश्मीर कभी पाकिस्तान नहीं बनेगा, याद रखना। हम भारत का हिस्सा हैं और हम भारत का हिस्सा रहेंगे, चाहे जो हो जाए। वे मुझे गोली भी मार दें तो भी इसे नहीं बदल सकते।
गुरद्वारे के बाहर संवाददाताओं से बातचीत में अब्दुल्ला ने कहा कि आतंकवादी कभी सफल नहीं होंगे और उनकी साजिश नाकाम हो जाएंगी। लेकिन हम सभी को- मुस्लिमों, सिखों, हिंदुओं और ईसाइयों को उनके खिलाफ मिलकर लड़ना होगा। भारत में ‘नफरत का तूफान’ चल रहा है और मुस्लिम, हिंदू तथा सिख समुदायों को बांटा जा रहा हैा बांटने की इस राजनीति को रोकना होगा, वरना भारत नहीं बचेगा। अगर हमें भारत को बचाना है तो हम सभी को मिलकर रहना होगा और तभी आगे बढ़ सकेंगे।
सुपिंदर कौर की हत्या पर दुख जताते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि 1990 के दशक में जब कई लोग डर की वजह से घाटी छोड़कर चले गये थे तब भी सिख समुदाय ने कश्मीर को नहीं छोड़ा। उन्होंने कहा कि हमें अपना मनोबल ऊंचा रखना होगा और साहसी बनना पड़ेगा।
उन्होंने सिख समुदाय की तारीफ करते हुए कहा कि केवल सिख समुदाय है जो सबके जाने के बाद भी यहीं रहा। छोटे छोटे बच्चों को पढ़ाने वाली एक शिक्षक को मारने से इस्लाम की खिदमत नहीं होती।

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें