किसान आंदोलन के साथ जुड़ाव पर निहंग जत्थों की 27 अक्टूबर को बैठक

नयी दिल्ली: सिंघु बॉर्डर पर किसानों के धरना स्थल पर एक व्यक्ति की नृशंस हत्या के बाद उठे विवाद के बीच निहंग सिखों ने आंदोलन से अपने जुड़ाव का भविष्य तय करने के लिए 27 अक्टूबर को एक महत्वपूर्ण बैठक बुलाई है।

Share
Written by
20 अक्टूबर 2021 @ 09:33
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
FILE PHOTO

सिंघु बॉर्डर पर मोर्चा लगाए बैठे जत्थेदार बाबा कुलविंदर सिंह चमकौर साहिब निहंग जत्थेबंदी के सदस्य शेर सिंह ने बताया कि निहंग जत्थेबंदियों ने 27 अक्टूबर को बैठक करने का फैसला किया है जिसमें दिल्ली की सीमा पर चल रहे किसान संगठनों के धरने से निहंगों के आगे के संबंध पर चर्चा की जाएगी। उन्होंने बताया कि इस बैठक में देशभर की जत्थेबंदियों और किसान यूनियन सहित हर धर्म के प्रतिनिधियों को बुलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि भारत प्लाजा होटल में एक हजार से अधिक लोगों के आने की उम्मीद है। श्री शेर सिंह ने कहा कि पिछले दिनों सिंघू बार्डर पर हुए हादसे के बाद  निहंगों के किसान आंदोलन में शामिल होने पर उठ रहे सवालों के बाद सभी  जत्थेबंदियों ने बैठक करने का निर्णय लिया है, जिसमें वे अपना पक्ष रखेंगी।  सभी लोगों को असल घटना के बारे में बताया जाएगा। साथ ही साथ आपसी सहमति से  भविष्य में किसान आंदोलन के साथ संबंधों के बारे में फैसला लिया जाएगा।
उन्होंने बताया कि यहां सिंघु बॉर्डर पर कुल छह निहंग जत्थेबंदियां मौजूद हैं। उन्होंने अलग-अलग स्थानों पर मोर्चा लगाया है। श्री सिंह के अनुसार कनाडा, अमेरिका और ब्रिटेन में भी जत्थेबंदियों की ओर से बैठक की जाएगी। वे भी हमारे लिए एकजुट होंगी। उन्होंने कहा कि खालसा पंथ का किसी भी धर्म के साथ कोई बैर नहीं है। उन्हें सभी ओर से समर्थन प्राप्त हो रहा है। हिंदु, मुस्लिम और अन्य धर्म के लाेग उनके समर्थन में जुट रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि हरियाणा पुलिस ने बीते दिनों इस मामले में दो निहंगों को गिरफ्तार किया था, जिन्हें बाद में न्यायालय में पेश किया गया था। मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है। वहीं शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसपीजीसी) ने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के दोषी को सजा देना का हवाला देते हुए हत्या के मामले में गिरफ्तार दोनों अभियुक्तों को कानूनी मदद देने की बात कही है।

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें