गोरखपुर में प्रियंका ने योगी को ललकारा भी, आईना भी दिखाया 

कांग्रेस महासचिव अपनी प्रतिज्ञा रैली में जहां मौजूदा सरकार पर जमकर निशाना साधा, वहीं नेताओं के चरित्र का भी चित्रण किया।

Share
Written by
1 नवंबर 2021 @ 00:06
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
priyanka in gorakhpur.jpg

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश में आज सीएम योगी आदित्यनाथ के गढ़ गोरखपुर में प्रियंका गांधी ने अपनी जोरदार मौजूदगी दर्ज कराई। उन्होंने अपनी प्रतिज्ञा रैली में जहां मौजूदा सरकार पर जमकर निशाना साधा, वहीं नेताओं के चरित्र का भी चित्रण किया। उन्होंने नेता पर जनता की आस्थाओं की जिम्मेदारी और जवाबदेही का मुद्दा उठाया। 
प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ पर जाम कर हमला बोला। उन्होंने कहा, “आदित्यानाथ खुद को गोरखनाथ की परंपरा का बताते हैं। लेकिन उनके कहे को नहीं मानते। जनता का शोषण करते हैं। गोरखपुर में सरकार ने बुलडोजर लगा रखा है। कबीर कहते थे- साईं इतना दीजिए जामे कुटुंब समाय। भाजपा कहती है जनता का सब लूटि लूटि पूंजपतियों को देऊ पहुंचाय। नवजीवन इंडिया डाट काम के अनुसार उन्होंने कहा कि, “जो सत्ता में होता है वो आपको बताता है कि आपका जीवन बहुत अच्छा हो गया है। और जो विपक्ष में होता है वो बताता है कि आपका जीवन नारकीय बना हुआ है। ये आस्थाओं का देश है। हम अपने देश में आस्था रखते हैं। अपनी मेहनत, अपनी धरती, अपने धर्म पर आस्था रखते हैं। और अपने नेताओं में भी आस्था रखते हैं। हम जब अपने देश के नेताओं में आस्था रखते हैं तो हम मानते हैं जो वो कह रहे हैं उसे वो सच्चाई और निष्ठा से करेंगे। लेकिन सच्चाई इससे अलग होती है।
उन्होंने कहा कि, “आज जब हम बड़े बड़े विज्ञापन देखते हैं तो पता चलता है कि विकास तो आ चुका है।“ उन्होंने चुटकी ली कि, “इतना बड़ा विज्ञापन है, प्रपोपागैंड है तो विकास तो आ ही चुका होगा। कहीं न कहीं तो आया होगा। मेरे नहीं तो किसी और के द्वारा आया होगा। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री जब कहते हैं तो लगता है पूरा न सही लेकिन कुछ न कुछ तो सही बोल रहे होंगे। जब प्रधानमंत्री जनता के 8 हजार करोड़ से इटली जाते हैं तो हमें लगता है वो देश का नाम रोशन कर रहे हैं। लेकिन हम खुद क्या झेल रहे हैं। सच्चाई हम जानते हैं।”
प्रियंका गांधी ने कहा कि, “नाव निषादों की मां होती है। नदी पर उनका हक़ होता है। लेकिन इस सरकार ने उनकी रोजी रोटी छीन ली। उन्होंने आवाज़ उठाई तो उन्हें मारा पीटा उनकी नाव तोड़ दी। इसी तरह किसान परेशान हैं। आंदोलन कर रहे हैं। दलित, बुनकर, अल्पपसंख्यक, बहुजन और ब्राह्मणों का भयंकर शोषण हुआ है। आगरा में 30 दलितों को उठाकर थाने में रखकर मारा पीटा गया। मैं उस लड़की से मिली जिसके पति की उसकी आंखों के सामने पुलिस ने पीट पीटकर हत्या कर दी। मैं उसकी पीड़ा को यहां व्यक्त तक नहीं कर सकती।“
कांग्रेस महासचिव ने एक के बाद एक मिसाले देते हे कहा कि, “जहां संकट है, मुश्किल है, संघर्ष है वहां ये सरकार अपना चेहरा दूसरी ओर कर लेती है और जनता की मदद नहीं करती। किसान खाद की लाइन में लगे लगे दम तोड़ रहे हैं, वो खाना खाने, पानी पीने नहीं जा सकते। न उनके यहां गैस सिलिंडर था, न कोई सरकारी मदद। 2-3 लाख का कर्ज था उन पर। साढ़े चार सालों में आपको गन्ने की क़ीमत बढ़ाने का मौका नहीं मिला?”


 

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें