लखनऊ में पुलिसिया कार्रवाई के बाद अफरा तफरी

पुलिस ने प्रदर्शनकारी महिलाओं के पास से खाने-पीने के सामान सहित कंबल को भी जब्त कर लिया

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
19 जनवरी 2020 @ 13:57
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें

नई दिल्ली: लखनऊ के घंटाघर में आज भी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं का प्रदर्शन जारी है. घंटा घर पर चल रहे प्रदर्शन में पुलिसिया कार्रवाई के बाद अफरा तफरी का माहौल मच गया है. रविवार सुबह पुलिस ने प्रदर्शनकारी महिलाओं के पास से खाने-पीने के सामान सहित कंबल को भी जब्त कर लिया है. प्रदर्शनकारी महिलाओं के साथ पुलिस की जुबानी जंग भी चल रही है. प्रदर्शनकारी पुरुषों को पुलिस भगा रही है. अब तक शांतिपूर्ण तरीके से चल रहे प्रदर्शन में अब माहौल बिगड़ गया है. प्रदर्शनस्थल के चारों तरफ पुलिस गश्त कर रही है.

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार घंटाघर में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है. इससे पहले शनिवार रात घंटाघर में भी भारी संख्या में लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया. महिलाओं के हाथ में सीएए और एनआरसी के विरोध की तख्तियां थीं. प्रदर्शन में महिलाओं के अलावा छोटे छोटे बच्चे और बच्चियां भी शामिल थीं. इस दौरान लखनऊ पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से हटने की अपील की, जब प्रदर्शनकारी नहीं माने तो पुलिस वाले अचानक एक्शन में आ गए और वहां आंदोलन से जुड़े सामान हटाए जाने लगे, जिसका विरोध हुआ, लेकिन पुलिस नहीं रूकी. प्रदर्शनकारी महिलाओं का आरोप है कि पुलिस ने उनके सामान जब्त कर लिए और टेंट-खाने का सामान नहीं पहुंचने दिया. महिलाओं का कहना है कि पुलिस आंदोलन को रोकने की कोशिश कर रही है.पुराने लखनऊ से शिक्षित महिलाएं और बच्चे हैं जो लखनऊ के घंटाघर के नीचे खुले आसमान मे कैंडल जलाकर खुले मे बैठे हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जब तक उनकी मांगें नहीं मान ली जाती हैं, तब तक वे प्रदर्शन से पीछे नहीं हटेंगे. लोग अपने साथ खाना, कंबल, पानी, टेंट सब साथ लेकर आए हैं.

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि शाहीन बाग और जेएनयू में जो भी हुआ है हम उसका विरोध करते हैं. ये एनआरसी और सीएए ध्यान भटकाने के लिये है. विकास और रोजगार मुद्दा है, उसको सरकार नही देख रही है. पुलिस घटनास्थल से पुरुषों को हटा रही है, लेकिन महिलाएं और बच्चे धरने पर बैठे हैं. कड़ाके की सर्दी के बीच रविवार सुबह घंटाघर से जो पुलिसिया कार्रवाई की तस्वीरें और वीडियो सामने आए उसकी पूरे देश में कड़ी निंदा हो रही है. घंटाघर पर शांतिपूर्ण तरीके से महिलाएं प्रदर्शन कर रही थीं. आरोप है कि अचानक पुलिस मौके पर पहुंची और उसने प्रदर्शन कर रही महिलाओं से जाने के लिए कहा. आरोप है कि इस दौरान पुलिस ने महिलाओं से कंबल और खाने के सामान छीन लिए. घंटाघर पर पुलिसिया कार्रवाई के वीडियो सोशल मीडिया वायरल हो रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि घंटाघर पर पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई का यह वीडियो है. वीडियो में पुलिस प्रदर्शनस्थल से कंबल ले जाते हुए दिखाई दे रही है. महिलाएं इसका विरोध कर रही हैं, लेकिन पुलिस उनकी एक नहीं सुन रही है. कड़ाके की सर्दी में पुलिस कंबल उठाती है और प्रदर्शनस्थल से लेकर चलती बनती है.

वहीं, पुलिस ने मौके पर मौजूद पुरुष प्रदर्शनकारियों को खदेड़ दिया. वीडियो में लोगों को खदेड़ते हुए भी पुलिस दिखाई दे रही है. प्रदर्शन कर रही महिलाओं का कहना है कि पुलिस ने उनके सामान जब्त कर लिए और टेंट और खाने का सामान प्रदर्शनस्थल पर नहीं पहुंचने दिया. महिलाओं का कहना है कि पुलिस आंदोलन बंद कराने की कोशिश कर रही है. महिलाओं का कहना है कि जब तक सीएए को केंद्र की मोदी सरकार वापास नहीं लेती उनका आंदोलन जारी रहेगा.घंटाघर पर सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाओं से कंबल छीनने पर पुलिस ने सफाई दी है. पुलिस ने कहा, “घंटाघर में प्रदर्शन के दौरान कुछ लोग वहां पर रस्सी और डंडे से घेरा बनाकर शीट लगा रहे थे, जिसे लगाने से मना किया गया. कुछ संगठनों के लोग पार्क में कंबल बांट कर रहे थे. आस-पास के लोग कंबल लेने आ रहे थे, जो धरने में शामिल नहीं थे. पुलिस ने कंबल और उन संगठन के लोगों को हटाया और कंबलों को कानूनी तरीके से कब्जे में लिया.

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें