मानव श्रृंखला के दौरान दो शिक्षकों की मौत, तेजस्वी यादव भड़क गए

नितीश चाचा पर वार करते हुए बोले: जब बाढ़ आई तब कोई हेलीकॉप्टर नहीं था, लेकिन अब ह्यूमन चेन की वीडियो रिकॉर्डिंग के लिए 15-16 हेलीकॉप्टरों का उपयोग किया गया, इतना पैसा बर्बाद किया गया

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
19 जनवरी 2020 @ 17:28
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें

नई दिल्ली: बिहार में 'जल-जीवन-हरियाली' अभियान के तहत रविवार को प्रदेश भर में करीब चार करोड़ से ज्यादा लोगों ने एक दूसरे का हाथ पकड़कर मानव श्रृंखला बनाई. इस दौरान दरभंगा के केवटी थाना इलाके में मानव श्रृंखला बनाने के दौरान एक शिक्षक की हार्ट अटैक से मौत हो गई. खबरों के मुताबिक, मानव श्रृंखला के दौरान उर्दू विद्यालय के शिक्षक मोहम्मद दाऊद को अचानक हार्ट अटैक आया. इसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. वहीं, समस्तीपुर में पटेल मैदान में मानव श्रृंखला में खड़ी एक महिला अचानक गिर गई. वहां मौजूद लोगों ने तुरंत इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया. इस दौरान महिला की मौत हो गई. महिला का घर जितवारपुर प्रखंड के समीप बताया गया है.

दरभंगा और समस्तीपुर में मानव श्रृंखला में शिक्षकों की मौत और प्रदेश भर में आयोजित कार्यक्रमों में बच्चों के शामिल होने पर आरजेडी ने गंभीर सवाल खड़े किए हैं. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा, “स्कूली बच्चों को बिना चप्पलों के लंबी कतारों में खड़े होने के लिए मजबूर होना पड़ा, जिसके कारण कई बच्चे बीमार पड़ गए. दरभंगा के कोठी में एक स्कूल टीचर की भी मौत हो गई है. यह सिर्फ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अहंकार के कारण हुआ है.

पटना के गांधी मैदान में आयोजित भव्य कार्यक्रम पर तेजस्वी यादव ने कहा, “जब बाढ़ आई तब कोई हेलीकॉप्टर नहीं था, लेकिन अब ह्यूमन चेन की वीडियो रिकॉर्डिंग के लिए 15-16 हेलीकॉप्टरों का उपयोग किया गया, इतना पैसा बर्बाद किया गया.

तेजस्वी ने कहा, “बिहार में अपराध इतना बढ़ गया है, नीतीश अपराधियों को संरक्षण देते हैं. किस बात की डबल इंजन सरकार, केंद्र ने बिहार को दो बार की बाढ़ के लिए 400 करोड़ रुपये दिए, कर्नाटक में 3000 करोड़ दिए हैं. जो सौतेला व्यवहार केंद्र सरकार बिहार के साथ कर रही है, उसे लोग देख रहे हैं.

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें