चिंतन शिविर में शिरकत के लिए ट्रेन से उदयपुर पहुंचे राहुल

संभावना यह जाहिर की जा रही है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी इस चिंतन शिविर में कई अहम फैसले ले सकती हैं

Share
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
rahul and gahlot.jpg

नई दिल्ली/ उदयपुर: कांग्रेस नेता राहुल गांधी गुरुवार रात आठ बजे दिल्ली के सराय रोहिल्ला रेलवे स्टेशन से करीब 74 नेताओं के साथ उदयुपर आने के लिए ट्रेन से रवाना हुए थे और वह शुक्रवार सुबह उदयपुर पहुंच गए। वह यहां चिंतन शिविर में हिस्सा लेंगे। इस दौरान रास्ते में जगह- जगह पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा उनका स्वागत किया गया। पार्टी के चिंतन शिविर के लिए उदयपुर जाते समय चित्तौड़गढ़ रेलवे स्टेशन पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया।
इस दौरान रेलवे स्टेशन पर राहुल गांधी उतरे और वहां मौजूद कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। कार्यकर्ताओं में उनके सम्मान में भेंट दिया और जमकर स्वागात में नारेबाजी की। इससे पहले राहुल गांधी से मिलने के लिए गुरुग्राम रेलवे स्टेशन पर पर कार्यकर्ताओं का हुजूम देखने को मिला। इससे पहले निम का थाना में राहुल गांधी का जोरदार स्वागत हुआ है। नवजीवन इंडिया डाट काम की रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस ने ट्वीट करके कहा कि नम का थाना अब जाग उठा है राहुल जी पर अपना प्यार बरसाने के लिए!
वही डबला स्टेशन, नारनौल और पटौदी रेलवे स्टेशन पर भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं का जोश देखने को मिला। यहां पर राहुल गांधी के स्वागत और एक झलक देखने के लिए देर रात तक कार्यकर्ता रेलवे स्टेशन पर मौजूद रहे। बता दें कि राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस का तीन दिन का चिंतन शिविर आज से शुरू हो रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी समेत कांग्रेस के देशभर के 400 बड़े नेता इसमें शामिल होंगे। चिंतन शिविर में पार्टी के आंतरिक मुद्दों पर चर्चा होगी, साथ ही संगठन को मजबूत करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर भी विचार होगा। इसके अलावा आने वाले चुनावों को लेकर भी रणनीति तैयार की जाएगी।
आपको बाता दें कि कांग्रेस का यह चिंतन शिविर 15 मई तक जारी रहेगा। संभावना यह जाहिर की जा रही है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी इस चिंतन शिविर में कई अहम फैसले ले सकती हैं। इसके साथ ही, संभावना यह भी जाहिर की जा रही है कि इस चिंतन शिविर में राहुल गांधी को कांग्रेस का दोबारा अध्यक्ष घोषित किया जा सकता है। सबसे बड़ी बात यह है कि कांग्रेस के चिंतन शिविर से पहले केरल कांग्रेस से पूर्व केंद्रीय मंत्री केवी थॉमस को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। उन पर आरोप है कि उन्होंने माकपा नेता और केरल के सीएम पिनराई विजयन के साथ मंच साझा किया था। उसके बाद पार्टी की ओर से यह कार्रवाई की गई है।  मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, अभी इसी साल देश के पांच राज्यों में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली करारी हार की वजह से पार्टी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय स्तर पर अप्रत्याशित संकट का सामना कर रही है। शिथिल पड़ चुकी पार्टी में जान डालने के लिए कांग्रेस की ओर से उदयपुर में अगले साल राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले नवसंकल्प चिंतन शिविर का आयोजन किया गया है।  बताया जा रहा है कि 13 से 15 मई तक आयोजित होने वाले इस चिंतन शिविर में पार्टी के 70 समूहों में 430 से अधिक नेता शिरकत करेंगे। 
सूत्रों के अनुसार, ध्रुवीकरण की राजनीति और लगातार टक्कर दे रही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से निबटने और अगले लोकसभा चुनाव के लिए खुद को तैयार करने के लिए इस चिंतन शिविर में रणनीति तैयार की जाएगी।
पार्टी सूत्रों ने बताया कि उदयपुर के इस चिंतन शिविर में नवसंकल्प दस्तावेज जारी किया जाएगा, जिसमें पार्टी आगे के कदमों की घोषणा (एक्शनेबल डिक्लियरेशन) शामिल होगा।  इसमें यह संदेश भी दिया जाएगा कि राष्ट्रीय स्तर पर गठबंधन के लिए मजबूत कांग्रेस का होना जरूरी है। इसी बीच प्रभात खबर ने बताया है कि सबसे बड़ी बात यह है कि उदयपुर में होने वाले चिंतन शिविर से पहले कांग्रेस ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री केवी थॉमस को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में गुरुवार को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। उन पर आरोप है कि उन्होंने माकपा नेता और केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन के साथ मंच साझा किया था। केरल प्रदेश कांग्रेस समिति के प्रमुख के सुधाकरन ने कहा कि थॉमस को अखिल भारतीय कांग्रेस समिति की सहमति से पार्टी से निष्कासित किया गया है। 

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें