पटना:बुलडोजर ऐक्शन पर दो दिन की रोक

पटना के नेपाली नगर और राजीव नगर में दो दिनों तक जारी अतिक्रमण विरोधी कार्रवाई पर उच्च न्यायालय ने रोक लगा दी और जिला मजिस्ट्रेट चंद्रशेखर सिंह को भी पेश होने का निर्देश दिया

Share
Written by
4 जुलाई 2022 @ 22:35
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
patna hc.jpg

पटना: पटना के नेपाली नगर और राजीव नगर में दो दिनों तक विध्वंस करने के बाद, पटना उच्च न्यायालय ने सोमवार को दो इलाकों में कार्रवाई पर रोक लगा दी। अधिकारियों के अनुसार लोगों ने सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर लिया है। अदालत ने दो दिन के लिए विध्वंस पर रोक लगाने का निर्देश देते हुए पटना के जिला मजिस्ट्रेट चंद्रशेखर सिंह को भी पेश होने का निर्देश दिया है। नवजीवन इंडिया डाट काम के अनुसार न्यायालय ने जिला प्रशासन को रविवार और सोमवार को गिरफ्तार किए गए सभी व्यक्तियों को तुरंत रिहा करने का भी निर्देश दिया है। जिला प्रशासन ने अतिक्रमण विरोधी अभियान के दौरान एक पुलिस दल पर पथराव करने के आरोप में 26 लोगों को गिरफ्तार किया है।
जिलाधिकारी के अनुसार राजीव नगर और नेपाली नगर को भूमाफियाओं ने अवैध रूप से विकसित किया था। जबकि इन मोहल्लों की जमीनों की रजिस्ट्रियों पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है, फिर भी कई लोगों ने अन्य जगहों से रजिस्ट्री करवा ली है या जमीन का पावर ऑफ अटॉर्नी ले लिया है। उन्होंने कहा कि जमीनें बिहार राज्य आवास बोर्ड की हैं और स्थानीय भू माफियाओं ने अवैध रूप से सरकारी जमीन को निर्दोष लोगों को बेचा है।
जिला प्रशासन ने एक माह पूर्व प्रत्येक निवासी को जमीन खाली करने के लिए कानूनी नोटिस जारी किया था। हालांकि, स्थानीय निवासियों ने दावा किया कि वे जमीन की कानूनी रजिस्ट्री के मालिक हैं और 20 से अधिक वर्षों से नगरपालिका कर और बिजली बिल का भुगतान भी कर रहे हैं। लोगों ने कहा कि जमीन बिहार राज्य आवास बोर्ड की है तो उन्हें बिजली आपूर्ति और हाउस टैक्स जैसी सरकारी सुविधाएं कैसे मिलीं।

गौरतलब है कि इस मामले में पटना हाईकोर्ट में दाखिल याचिका में याचिकाकर्ता की ओर से बताया गया कि राज्य की नीतीश कुमार सरकार और आवास बोर्ड ने गैर कानून तरीके से सैंकड़ों मकानों को तोड़ दिया है। याचिका में कहा गया कि यह कार्रवाई दीघा लैंड सेटलमेंट एक्ट के तहत नहीं की गई है, जबकि यह एक्ट इसी के लिए बनाया गया है। याचिका में कहा गया कि नीतीश सरकार और आवास बोर्ड का कार्य पूरी तरह गैरकानूनी है। बता दें कि पटना के राजीव नगर इलाके में रविवार को उस समय हालात तनावपूर्ण हो गए, जब प्रशासन का बुलडोजर लोगों के घरों को ढहाने पहुंचा था। जेसीबी की कार्रवाई के खिलाफ लोगों ने अपना गुस्सा जाहिर कर रहे थे। इस दौरान भीड़ भड़क गई और पथराव शुरू हो गया। दूसरी ओर, पुलिस बल ने भी हवाई फायरिंग और लाठीचार्ज कर हालात को नियंत्रित किया।  इधर दूसरी ओर दैनिक हिंदुस्तान की खबर में बताया गया है कि सोमवार को पटना डीएम, एसएसपी समेत कई अधिकारी और सैंकड़ों की तादाद में पुलिसकर्मी अवैध अतिक्रमण को हटाने 17 बुलडोजर लेकर पहुंचे। इस कार्रवाई का विरोध कर रहे जाप प्रमुख पप्पू यादव और उनके समर्थकों के खिलाफ भी केस दर्ज कर लिया गया है। वहीं रविवार को बवाल मचाने वाले काफी संख्या में लोगों के खिलाफ भी पटना पुलिस ने सख्त एक्शन लिया है।

दूसरी खबरों एवं जानकारियों से अवगत होने के लिए इस वीडियो लिंक को क्लिक करना ना भूलें

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें