चीन में उइगर मुसलमान औरतों की जबरन हो रही है नसबंदी

एक नई रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि चीन सरकार शिनजियांग प्रांत में रहने वाले वीगर मुसलमानों की आबादी को नियंत्रित करने के लिए इस समुदाय की औरतों की नसबंदी कर रहा है या फिर उनके अंदर गर्भनिरोधक उपकरण डाल रहा है।

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
1 जुलाई 2020 @ 15:55
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
उइगर मुस्लिम

उइगुर मुसलमानों के साथ चीन का रवैया और उनके लिए चलाए जा रहे "सुधार केंद्र" लंबे समय से चर्चा में रहे हैं. अब सामने आया है कि चीन में उइगुर मुसलमानों को जबरन गर्भनिरोधन पर भी मजबूर किया जा रहा है।

एक खास रिपोर्ट के मुताबिक चीनी सरकार उइगुर मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों की आबादी को नियंत्रित करने के लिए कुछ बेहद कठोर कदम उठा रही है। एक समाचार इजेंसी ने कुछ सरकारी दस्तावेजों और आकड़ों का आकलन किया और तीस ऐसे लोगों से बात की जो "सुधार केंद्र" में वक्त गुजार चुके हैं।

वहीं, इसके अलावा ऐसे एक केंद्र में काम कर चुके एक ट्रेनर और इन कैंपों में भेजे गए कई लोगों के रिश्तेदारों से भी बात की गई। इस छानबीन के अनुसार पिछले चार सालों में शिनजियांग प्रांत में बहुत व्यवस्थित रूप से अल्पसंख्यकों की आबादी बढ़ने से रोकी जा रही है। कुछ जानकार इसे "जनसांख्यिकी नरसंहार" का नाम भी दे रहे हैं।

बता दें कि शिंजियांग में चल रहे इस जन्म नियंत्रण अभियान पर चीनी सरकार ने कोई प्रतिक्रया तो नहीं दी है लेकिन वह पहले यह जरूर कह चुकी है कि मुसलमानों की बढ़ती आबादी गरीबी और चरमपंथ को बढ़ावा देती है।

इस रिपोर्ट के अनुसार उइगुर महिलाओं का नियमित रूप से प्रेगनेंसी टेस्ट किया जाता है। उन्हें गर्भनिरोधन के लिए तरह तरह की चीजें इस्तेमाल करने पर मजबूर किया जाता है। इतना ही नहीं, लाखों महिलाओं का जबरन गर्भपात भी कराया जा चुका है. चीन में एक बच्चे की नीति खत्म किए जाने के बाद परिवार नियोजन के लिए इस्तेमाल होने वाले आईयूडी जैसे कॉपर टी इत्यादि के इस्तेमाल में भारी गिरावट देखी गई है। लेकिन आंकड़े दिखाते हैं कि पिछले कुछ सालों में शिनजियांग में इनका इस्तेमाल और बढ़ गया है।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें