PFI ने संयुक्त अरब अमीरात और इज़रायल के संबंध को बताया अनैतिक, कहा: फिलिस्तीनी जनता के साथ धोखा

संयुक्त अरब अमीरात और इज़रायल के संबंध अनैतिक; फिलिस्तीनी जनता के साथ धोखाः पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
15 अगस्त 2020 @ 22:00
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
PFI

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के चेयरमैन ओ एम ए सलाम ने संयुक्त अरब अमीरात और इज़रायल के संबंध में आई हालिया ‘नरमी’ की निंदा की।

फिलिस्तीनी जनता की संयुक्त भावनाओं पर विचार किए बिना इज़रायल के प्रति कोई भी दोस्ताना रवैया अनैतिक और इज़रायली कब्ज़े के खिलाफ फिलिस्तीनी संघर्ष के साथ धोखे के समान है।

इज़रायल एक जातिवादी, नस्लवादी राज्य है, जिसने कई बार अंतरराष्ट्रीय कानूनों का अपमान किया है। उसने फिलिस्तीनियों के मानव अधिकारों का कभी सम्मान नहीं किया।

एक तरफ इज़राइल ने फिलिस्तीन की जनता को गाजा में बेरहमी के साथ क़ैद कर रखा है और दूसरी और उसने वेस्ट बैंक के फिलिस्तीनी इलाके से असल बाशिंदों को बेदखल करके इलाके के बड़े हिस्से पर कब्ज़ा जमा लिया है।

इसलिए मुस्लिम व अरब देशों और इसी तरह अन्य देशों को जो मानव अधिकारों का सम्मान करते हैं, उनको चाहिए कि वे फिलिस्तीनी उद्देश्य के साथ बिना किसी शर्त के समर्थन जताएं और इज़रायल से मांग करें कि वह फिलिस्तीनी जनता के मानव अधिकारों और उनके आत्म-निर्णय के अधिकार का सम्मान करे। इज़रायल के साथ कोई भी सरकारी संबंध बनाने से पहले, मुस्लिम देशों को चाहिए कि वे यहूदी राज्य से कहें कि वह सभी गैरकानूनी अधिकृत क्षेत्रों को फिलिस्तीनियों को लौटाए और उन क्षेत्रों को छोड़कर जाने वाले लाखों फिलिस्तीनी शरणार्थियों को वापस आने दे।

दोनों देशों के बीच हालिया समझौता आम फिलिस्तीनियों के दुखों और परेशानियों का मज़ाक है।

ओ एम ए सलाम ने कहा कि इस नए कदम से, जिससे केवल इज़रायली और अमेरिकी लाभ की पूर्ति होती है, पूरे विश्व के शांति एवं न्याय प्रिय लोग धोखा महसूस कर रहे हैं। पॉपुलर फ्रंट संयुक्त अरब अमीरात के नेतृत्व से अपील करता है कि वह अपने फैसले पर पुनर्विचार करे।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें