आज ब्लैक फ्राइडे है ...

सबसे पहले ब्लैक फ्राइडे टर्म का इस्तेमाल सेल नहीं बल्कि आर्थिक संकटों से जोड़कर हुआ था. 24 सितंबर 1869 को 'ब्लैक फ्राइडे' कहा गया क्योंकि इस दिन अमेरिका की गोल्ड मार्केट क्रैश हो गई थी

Share
Written by
शाहिदुल इस्लाम
29 नवंबर 2019 @ 14:33

आजका इतिहास:

दुनिया के अक्सर  देशों में आज यानी 29 नवंबर को ब्लैक फ्राइडे मनाया जाता है. ये दिन क्रिसमस की शॉपिंग के लिए भी जाना जाता है. पहले ये अमेरिका और कनाडा जैसे पशचिमी देशों में ही मनाया जाता था, किन्तु अब दुनिया के लगभग तमाम देशों में ये दिन सेलिब्रेट किया जाता है. इसके पीछे वजह ई-कॉमर्स प्लेटफार्म भी हैं जो इस दिन इंटरनेशनल प्रोडक्ट पर बम्पर डिस्काउंट देते हैं.

 

एक तरह से यह शॉपिंग का सप्ताह है जिसकी शुरूआत थैंक्सगिविंग डे से शुरू होती है. अमेरिका में ब्लैक फ्राइडे सबसे बड़ा शॉपिंग इवेंट है, जहां कई रिटेलर्स अपने सामान की कीमतों में भारी डिस्काउंट देते हैं. कहा जाता है कि इस दिन से लोग क्रिसमस की शॉपिंग शुरू कर देते हैं.

दरअसल अमेरिका में नवंबर का आखिरी गुरुवार थैंक्सगिविंग डे के रुप में मनाया जाता है, इस दिन सभी दोस्त और रिश्तेदार एक दूसरे से मिलते हैं और क्वालिटी टाइम एक दूसरे के साथ बिताते हैं. इसके अगले दिन यानी ब्लैक फ्राइडे के दिन लोग क्रिसमस के लिए खरीदारी करना शुरू कर देते हैं.

इस दिन अधिकतर रिटेलर जैसे अमेजन अपने प्रॉडक्ट्स पर बंपर ऑफर देते हैं. अब अमेरिका, कनाडा ही नहीं अधिकतर देशों में इस दिन को मनाया जाता है.  भारत में भी ब्लैक फ्राइडे के दिन अमेजन जैसी कंपनियां अच्छे ऑफर्स देती हैं.

सबसे पहले ब्लैक फ्राइडे टर्म का इस्तेमाल सेल नहीं बल्कि आर्थिक संकटों से जोड़कर हुआ था. 24 सितंबर 1869 को 'ब्लैक फ्राइडे' कहा गया क्योंकि इस दिन अमेरिका की गोल्ड मार्केट क्रैश हो गई थी. दऱ्असल ऐसा तब हुआ जब दो फाइनेंसर्स, जय गोल्ड और जिम फिस्क ने मिलकर बहुत अधिक सोना खरीद लिया. लेकिन 24 सितंबर 1869 शुक्रवार के दिन स्टॉक मार्केट ठप्प हो गया, और कई लोग दिवालिया घोषित हो गए.

इस दिन का खास इतिहास यह बताया जाता है कि ब्लैक फ्राइडे सेल की शुरुआत अमेरिका ने की थी. भारत में इस सेल को साल 2018 में सबसे पहले ईबे शॉपिंग साइट ने शुरू किया था. अब भारतीय कस्टमर्स को भी ब्लैक फ्राइडे सेल का इंतजार रहता है. अमेजन, ईबे जैसी बड़ी ई-कॉमर्स साइट ब्लैक फ्राइडे सेल में शामिल होती हैं. इसमें भारतीय ग्राहकों को कई इटरनेशनल प्रोडक्ट खरीदने का मौका मिल जाता है. हालांकि सेल में शामिल कई प्रोडक्ट की डिलीवरी भारत में नहीं होती. इसलिए अमेरिका की तरह ही भारत में भी ब्लैक फ्राइडे सेल काफी हिट हो रही है, क्योंकि सेल के दौरान सस्ते दामों में विदेशी ब्रांड के प्रोडक्ट मिल जाते हैं.

साल 1996 की फिल्म जिंगल ऑल द वे में इस दिन की मुसीबतों का नाटकीय हास्य रूपांतरण दिया गया है. साल 2006 में रोनोके वीए के बेस्ट बाय में इसी दिन खरीदारी करते हुए एक व्यक्ति को दूसरे ग्राहक से मारपीट करते हुए वीडियो में रिकॉर्ड किया गया था. वहां वालमार्ट में भी ऐसे ही खरीदारों की भीड़ के बीच रेलमपेल में बहुत से लोग घायल हुए थे. इसी तरह कैलिफोर्निया के एक मॉल में गिफ्ट सर्टिफिकेट बांटे जा रहे थे. वहां भी भीड़ टूट पड़ी. इस घटना में नौ खरीदार घायल हो गए थे, जिसमें एक बुजुर्ग महिला शामिल थी जिसे अस्पताल ले जाना पड़ा था.

2008 में न्यूयॉर्क के वैली स्ट्रीम में लगभग 2,000 खरीदारों की पूरी भीड़ स्थानीय वालमार्ट के खुलने का इंतजार कर रही थी. खुलने का समय करीब आते-आते भीड़ बेतहाशा बेचैन हो रही थी. जैसे ही दरवाजे खुले, खरीदारों की भीड़ दरवाजे को तोड़ते हुए आगे बढ़ी. वहां एक 34 वर्षीय कर्मचारी नीचे गिर गई थी. लेकिन भीड़ उसे कुचलकर तेजी से आगे बढ़ती रही. इससे कर्मचारी की मौत हो गई. भीड़ ने उसकी कतई परवाह नहीं की. यहां एक गर्भवती महिला भी घायल हो गई थी.

Click on the ad to support Pal Pal News