अमेरिका में सूअर के दिल को एक इंसान में किया गया ट्रांसप्लांट

इस ट्रांसप्लांट को करने वाली मेडिकल टीम ने कई सालों के शोध के आधार पर इसे अंजाम दिया है जो कि दुनिया में कई लोगों की ज़िंदगियां बदल सकता है

Share
Written by
11 जनवरी 2022 @ 11:25
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
suar.jpg

बाल्टिमोर: अमेरिका के एक शख़्स दुनिया के ऐसे पहले व्यक्ति बन गए हैं जिन्हें आनुवंशिक रूप से संशोधित सूअर का दिल ट्रांसप्लांट किया गया है। डॉक्टरों ने बताया है कि बाल्टिमोर में सात घंटे तक चली प्रायोगिक प्रक्रिया के तीन दिन बाद 57 वर्षीय डेविड बेनेट स्वस्थ हो रहे हैं। 
यह ट्रांसप्लांट बेनेट की ज़िंदगी बचाने की आख़िरी उम्मीद थी। हालांकि यह अभी तक साफ़ नहीं है कि उनके लंबे समय तक जीवित रहने की कितनी संभावनाएं हैं। सर्जरी से पहले बेनेट ने दिन में कहा था कि ‘यह ट्रांसप्लांट जियो या मरो जैसा है। ’उन्होंने कहा था, “मैं जानता हूं कि यह अंधेरे में तीर चलाने जैसा है लेकिन यही मेरा आख़िरी मौक़ा है।”
बेनेट की अगर यह सर्जरी नहीं होती तो वो मर जाते इसी आधार पर यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेरीलैंड मेडिकल सेंटर के डॉक्टरों को अमेरिका के स्वास्थ्य विनियामक ने इस प्रक्रिया के लिए विशेष छूट दी थी। इस ट्रांसप्लांट को करने वाली मेडिकल टीम ने कई सालों के शोध के आधार पर इसे अंजाम दिया है जो कि दुनिया में कई लोगों की ज़िंदगियां बदल सकता है। 
यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेरीलैंड स्कूल ऑफ़ मेडिसिन ने एक बयान में सर्जन बार्टले पी। ग्रिफ़िथ के हवाले से कहा है कि यह सर्जरी दुनिया को ‘अंगों की कमी के संकट को सुलझाने में एक क़दम नज़दीक लाई है।’
अमेरिका में हर रोज़ ऐसे 17 लोगों की मौत हो जाती है जो ट्रांसप्लांट का इंतज़ार कर रहे हैं और 1 लाख से अधिक लोग ट्रांसप्लांट के लिए वेटिंग लिस्ट में हैं। इस कमी को पूरा करने के लिए जानवरों के अंगों के इस्तेमाल को लेकर संभावनाएं बहुत पहले से तलाशी जा रही हैं और इसे ज़ेनोट्रांसप्लांटेशन कहा जाता है। सूअर के हार्ट वॉल्व का इस्तेमाल अब आम बात हो चुकी है। न्यूयॉर्क में अक्तूबर 2021 में सर्जन्स ने घोषणा की थी कि उन्होंने सूअर की किडनी का सफलतापूर्वक एक व्यक्ति में ट्रांसप्लांट किया है। उस समय इस क्षेत्र में यह ऑपरेशन सबसे उन्नत प्रयोग था। हालांकि, उस समय जिस शख़्स में इसे ट्रांसप्लांट किया गया था वो ब्रेन डेड थे और उनके ठीक होने की कोई उम्मीद नहीं थी। 

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें