... इस कारण सऊदी अरब ने भारत सहित 16  देशों की यात्रा पर लगाई पाबंदी

इस फैसले के बाद हज के लिए जाने वाले लोगों की परेशानी में इज़ाफा होने का खतरा बढ़ गया है

Share
पल पल न्यूज़ का समर्थन करने के लिए advertisements पर क्लिक करें
Subscribe to YouTube Channel
 
saudi.jpg

रियाध: सऊदी अरब ने कोरोना के फिर से फैलने के बाद अपने नागरिकों के 16 देशों की यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया है। इनमें लेबनान, सीरिया, तुर्की, ईरान, अफगानिस्तान, भारत, यमन, सोमालिया, इथियोपिया, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, लीबिया, इंडोनेशिया, वियतनाम, आर्मेनिया, बेलारूस और वेनेजुएला शामिल हैं।
पिछले कुछ हफ्तों में दैनिक COVID-19 संक्रमणों की संख्या में लगातार वृद्धि के बाद प्रतिबंध आया है। अल अरबिया ने बताया कि इस बीच, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जनता को सुनिश्चित किया है कि उसे सऊदी अरब में अभी तक मंकीपॉक्स के किसी भी मामले का पता नहीं चला है।
सऊदी अरब के उप स्वास्थ्य मंत्री डॉ अब्दुल्ला असिरी ने कहा कि किंगडम का स्वास्थ्य क्षेत्र "मंकीपॉक्स" के संदिग्ध मामलों की निगरानी और खोज करने और संक्रमण से निपटने में सक्षम है। उन्होंने कहा: "संदिग्ध मामलों की एक मानक परिभाषा है और उनकी पुष्टि करने का तरीका और निगरानी और निदान के तरीके किंगडम की प्रयोगशालाओं में उपलब्ध हैं।"
उन्होंने कहा, "अब तक, मनुष्यों के बीच संचरण के मामले बहुत सीमित हैं, और इसलिए इससे होने वाले किसी भी प्रकोप की संभावना बहुत कम है, यहां तक कि उन देशों में भी जहां मामलों का पता चला है।"
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि 11 देशों में मंकीपॉक्स के लगभग 80 मामलों की पुष्टि हुई है, और चेतावनी दी है कि और मामले सामने आने की संभावना है। इस बीच जी न्यूज़ की खबर में बताया गया है कि सऊदी अरब के इस फैसले के बाद हज के लिए जाने वाले लोगों की परेशानी में इज़ाफा होने का खतरा बढ़ गया है। क्योंकि पिछले दो वर्षों कोई भी भारतीय हज नहीं कर पाया था।  पिछले दो सालों में आज़मीने हज के ना जाने की वजह भी कोरोना वायरस ही थी।  उस समय ना सिर्फ सऊदी अरब बल्कि भारत समेत पूरी दुनिया इस महामारी का सामना कर रही थी।  हालांकि अभी तक सऊदी की तरफ से हज को लेकर कोई ऐसा बयान नहीं आया है जिससे हाजियों के दिल टूटें।  केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने 6 या 7 जून को भारत से हज पर जाने वालों की फ्लाइट शुरू हो जाएंगी।  नकवी ने यह बात हज 2022 के दो दिवसीय ट्रेनिंग प्रोग्राम के दौरान कहीं।  
 

पल पल न्यूज़ से जुड़ें

पल पल न्यूज़ के वीडिओ और ख़बरें सीधा WhatsApp और ईमेल पे पायें। नीचे अपना WhatsApp फोन नंबर और ईमेल ID लिखें।

वेबसाइट पर advertisement के लिए काॅन्टेक्ट फाॅर्म भरें