भारी बमबारी के बाद अब सामान्य हुए इदलीब के हालात

सीरिया का इदलीब इलाका इस वक्त शांत तो है लेकिन बेहद तनाव में है. विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके में रूस और सीरिया के हवाई हमले रुक गए हैं.

Share
Written by
पल पल न्यूज़ वेब डेस्क
10 मार्च 2020 @ 15:41
Idlib's atmosphere now calms down after heavy bombing

इदलीब में बीते तीन महीनों की लड़ाई में कम से कम 10 लाख लोग बेघर हुए है. गुरुवार को मॉस्को में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और तुर्की के प्रधानमंत्री रेचप तैयप एर्दोवान के बीच चली लंबी बातचीत के बाद आखिरकार युद्धविराम का एलान हुआ.

इलाके के बाशिंदों और लड़ाकों का कहना है कि मुख्य मोर्चे पर एक तरफ रूसी और सीरिया के हवाई हमले चल रहे थे और दूसरी तरफ तुर्की ड्रोन और टैंक से मुकाबला कर रहा था. युद्धविराम का घोषित वक्त शुरू होने के कुछ घंटों बाद हमले थम गए और खामोशी फैल गई.

चश्मदीदों का कहना है कि मशीनगनों और मोर्टार से छिटपुट गोलीबारी की आवाजें आई हैं. हालांकि यह उत्तर पश्चिमी अलेप्पो और दक्षिणी इदलीब के कुछ मोर्चों की तरफ से आई हैं जहां असद की सेना और इरानी मिलीशिया ने मोर्चा संभाल रखा है.

दूसरे इलाकों में लड़ाई फिलहाल थम गई है. विपक्षी नेता इब्राहिम अल इदलीबी विद्रोही लड़ाकों के संपर्क में हैं. उनका कहना है, "शुरुआती घंटों में लड़ रहे सभी पक्षों की ओर हमने बेहद तनावपूर्ण शांति देखी. हर कोई इस से वाकिफ है कि किसी भी तरफ से उल्लंघन का करारा जवाब आएगा. लेकिन यह युद्धविराम बहुत नाजुक है."

सीरिया के सरकारी मीडिया ने ताजा युद्धविराम संधि के बारे में खबर नहीं दी है. विपक्षी नेता इसके जारी रहने पर आशंका जता रहे हैं क्योंकि इसमें तुर्की की मुख्य मांग को शामिल नहीं किया गया है और इस वजह से इसकी आलोचना भी हो रही है. तुर्की चाहता है कि सीरियाई सेना इदलीब में तय हुए बफर जोन से बाहर निकल जाए. इस बफर जोन पर रूस और तुर्की ने 2018 में सोची में हुई बैठक में सहमति बनाई थी.

संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि हमलों की वजह से करीब 10 लाख लोग बेघर हुए हैं और बीते 9 साल से चली आ रही जंग में यह सबसे बड़ा पलायन है.

रहाल ने बताया कि सीरिया की सीमा पर और उसके भीतर तुर्की बड़ी सेना तैनात कर रहा है और उसके हिसाब से नतीजे नहीं आए हैं. सीरिया के विद्रोही लड़ाकों का कहना है कि तुर्की ने करीब 15000 सैनिकों को तैनात किया है ताकि रूस समर्थित हमलों के बाद इदलीब में बढ़ रही सेना को रोका जा सके. इदलीब में कई युद्धविराम हुए हैं लेकिन रूस समर्थित सेनाओं के आगे बढ़ने के बाद वो सब टूट गए.

Click on the ad to support Pal Pal News